डीएसपी का फ़ेसबुक संदेश, सोशल मीडिया पर बवाल

अनुपमा शेनॉय इमेज कॉपीरइट Anupama Shenoy Facebook

एक विवादित पुलिस अधिकारी के फ़ेसबुक पोस्ट ने सोशल मीडिया पर हलचल मचा रखी है.

कर्नाटक राज्य में डिप्टी सुपरिन्टेंडेंट ऑफ पुलिस के पद पर काम कर रही अनुपमा शेनॉय ने चंद दिनों पहले पोस्ट में कहा था - “रिज़ाइन्ड एंड जॉबलेस” यानि इस्तीफ़ा दे दिया है, और बेरोज़गार हूं. साथ ही संदेश में स्माइली भी बनाया गया था.

शेनॉय इससे पहले सोशल मीडिया पर तब चर्चा में आईं थीं जब कथित तौर पर उन्होंने सूबे के एक मंत्री पीटी परमेश्वर नायक का फ़ोन होल्ड पर रख दिया था. फिर उनका ट्रांसफर हो गया और दोनों मामले जुड़ से गए.

बाद में उन्हें फिर से पुरानी जगह बहाल किया गया था.

इमेज कॉपीरइट Other

उन्होंने उसके बाद भी कई पोस्ट डाले हैं जिसमें किसी सीडी को जारी करने की भी बात है.

अनुपमा कथित शराब माफ़िया के ख़िलाफ़ सख़्त क़दम उठाने को लेकर भी चर्चा में रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

उनके इस्तीफे के बारे में जब मुख्यमंत्री सिद्धारमैया से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि इस्तीफ़ा डीजीपी के पास पहुंचा है और वे इस पर ग़ौर करेंगे.

मंत्री का फ़ोन कॉल के होल्ड पर रखने के कारण हुए तबादले की बात तब सामने आई थी तब अपने समर्थकों के बीच परमेश्वर नायक ने अपनी तारीफ़ करते हुए कहा कि कैसे उन्होंने 'उनका फ़ोन कॉल होल्ड पर रखने के लिए' डीएसपी का तबादला करवा दिया था.

नाम न लिए जाने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि "ये सच है कि वे राज्य में ग़ैर-कानूनी शराब की बिक्री के ख़िलाफ़ सीधे तौर पर काम कर रही हैं."

इमेज कॉपीरइट karnataka.gov.in

उनके इस्तीफ़े के तुरंत बाद उनके फ़ेसबुक पन्ने पर लिखा था, "मैं यह व्यक्तिगत शोहरत के लिए नहीं कर रही हूँ. मेरा काम है लोगों की रक्षा करना और क़ानून-व्यवस्था बनाए रखना. यदि जाति, राजनीतिक और वित्तीय बल पुलिस स्टेशन को चलाने के लिए महत्वपूर्ण पैमाना है, तो मैं ऐसी जगह पर नहीं रहना नहीं चाहती. मैं हर मामले में अकेले लड़-लड़ कर थक गई हूँ."

ख़ुफ़िया विभाग के पूर्व आईजीपी गोपाल होसूर ने कहा, "उन्हें इस्तीफ़ा देने से पहले थोड़ा और सोचना चाहिए था, क्योंकि ये सिस्टम की समस्या है. यदि आप कुछ बदलना चाहते हैं और सिस्टम आपके रास्ते में रुकावट बन रहा है. तो आप उस समय का इंतज़ार करें जब तक परिवर्तन लाने के लिए सिस्टम का विकास नहीं हो जाता."

नाम ज़ाहिर न किए जाने की शर्त पर एक और अधिकारी ने बताया, "हम जानते हैं वे सच्ची और अच्छी अफ़सर हैं. लेकिन, हम उसके व्यक्तित्व का दूसरा पहलू नहीं जानते, हो सकता है वे अहंकारी हों, शायद गुमराह भी."

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, बी एस येदुरप्पा ने कहा है उनका इस्तीफ़ा ''कांग्रेस सरकार के तहत राज्य में फैले घृणित और घुटने वाले माहौल पर एक टिप्पणी है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार