'उड़ता पंजाब के विरोधी ड्रग्स के हिमायती'

उड़ता पंजाब इमेज कॉपीरइट PHANTOM PICTURES

अनुराग कश्यप की फ़िल्म 'उड़ता पंजाब' को सेंसर बोर्ड से हरी झंडी नहीं मिली है और ख़बरों के मुताबिक़ सेंसर बोर्ड ने इसमें कई कट्स लगाने के लिए कहा है.

फ़िल्म पंजाब की ड्रग समस्या पर आधारित है.

रिपोर्टों के अनुसार सेंसर बोर्ड ने फ़िल्म से पंजाब और इसकी तमाम जगहों के नाम हटाने को कहा है.

इस पर सोशल मीडिया पर तीखी बहस हो रही है और लोग सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी की आलोचना कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

फ़िल्म के सह-निर्माता अनुराग कश्यप और फ़िल्मकार महेश भट्ट ने भी सेंसर बोर्ड पर निशाना साधा है.

अनुराग कश्यप ने ट्वीट किया, "उड़ता पंजाब से ज़्यादा ईमानदार फ़िल्म कोई हो ही नहीं सकती. और जो भी व्यक्ति या संगठन इसका विरोध कर रहे हैं वो एक तरह से ड्रग्स को प्रमोट कर रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट Other

इससे पहले उन्होंने ट्वीट किया था, "मैं हमेशा सोचता था कि उत्तर कोरिया में रहना कैसा अनुभव होता होगा. अब ये महसूस करने के लिए प्लेन पकड़ कर वहां जाने की भी ज़रूरत नहीं."

महेश भट्ट ने ट्वीट किया, "सेंसरशिप, डर और अज्ञानता का जनक है. पहलाज निहलानी, आप सुन रहे हैं."

निर्देशक निखिल आडवाणी ने लिखा, "मेरे ख़्याल से अब जल्द ही हमें अपनी फ़िल्मों की स्क्रिप्ट भी सेंसर बोर्ड में जमा करानी होगी."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार