दिल्ली में केजरीवाल का 'पंजाबी प्रेम'

केजरीवाल विज्ञापन इमेज कॉपीरइट

केजरीवाल सरकार के पंजाबी शिक्षकों की वेतन बढ़ोतरी और नई नियुक्तियों के विज्ञापन पर विपक्ष ने उठाए सवाल.

दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने अख़बारों में पूरे पेज का विज्ञापन देकर हर स्कूल में पंजाबी भाषा का अध्यापक रखने और उनकी वेतन बढ़ोत्तरी की बात कही है.

विज्ञापन आने के बाद केजरीवाल सरकार की आलोचना शुरू हो गई है और विपक्ष ने इसकी निंदा की है.

इमेज कॉपीरइट

विपक्षी पार्टीयों ने कहा है कि केजरीवाल सरकार ने यह विज्ञापन अगले साल होने वाले पंजाब विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखकर दिया है.

विपक्ष का आरोप है कि केजरीवाल की आम आदमी पार्टी इस विज्ञापन के ज़रिए सरकारी ख़र्च पर पंजाब के मतदाताओं को लुभाने की कोशिश कर रही है.

कांग्रेस के नेता अजय माकन ने ट्विट कर अरविंद केजरीवाल से सवाल पूछा है.

माकन ने कहा है कि, "केजरीवाल सरकारी ख़ज़ाने को पूरे पेज के विज्ञापन पर ख़र्च कर रही है और उधर दिल्ली के कर्मचारियों को वेतन तक नहीं मिल रहा है."

इमेज कॉपीरइट AFP

आम आदमी पार्टी अभी से दावा कर रही है कि वो पंजाब विधानसभा चुनावों में उसे दिल्ली जैसी जीत हासिल होगी. हाल ही में 'उड़ता पंजाब' को लेकर हुए विवाद में भी आम आदमी पार्टी का नाम आया है.

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी का कहना है कि "ऐसा सुनने में आया है कि इस फ़िल्म के लिए अनुराग कश्यप को आम आदमी पार्टी ने पैसे दिए थे."

हालांकि 'आप' और इस फ़िल्म के सह निर्माता अनुराग कश्यप ने इसका खंडन किया है और निहलानी से मांफ़ी मांगने की मांग की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार