कन्हैया का 'देशद्रोह' वाला वीडियो सही है: पुलिस

जेएनयू कन्हैया इमेज कॉपीरइट AP

पुलिस ने दावा किया है कि दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में 9 फ़रवरी को हुए विवादित कार्यक्रम के उस वीडियो को सीबीआई की फॉरेंसिक लैब में सही पाया गया है जिसके आधार पर कन्हैया कुमार और दो अन्य के ख़िलाफ़ देशद्रोह का मामला बना था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पुलिस का दावा है कि जेएनयू में इस वर्ष 9 फरवरी को हुए कार्यक्रम के जिस शुरुआती वीडियो को एक हिंदी न्यूज़ चैनल ने प्रसारित किया था, उसे जांच के लिए दिल्ली में ही सीबीआई की फॉरेंसिंक लैब में भेजा गया था.

इमेज कॉपीरइट Tarendra

पीटीआई के मुताबिक, पुलिस आयुक्त (स्पेशल सेल) अरविंद दीप ने इस फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट मिलने की पुष्टि की है लेकिन अधिक ब्यौरा देने से इंकार कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Rama Naga

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने कथित घटना से जुड़े वीडियो की चार क्लिप्स जांच के लिए गांधीनगर स्थित सेंट्रल फॉरेंसिक लैब में भेजी थीं. मई में आई गांधीनगर लैब की रिपोर्ट में इन क्लिप्स को सही पाया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

पुलिस ने कथित वीडियो क्लिप्स के आधार पर जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य छात्रों उमर ख़ालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ़ मामला दर्ज किया था.

इन छात्रों पर जेएनयू परिसर में भारत विरोधी नारे लगाने का आरोप है जिसके लिए उन्हें इस वर्ष फरवरी में गिरफ्तार भी किया गया था. बाद में उन्हें ज़मानत पर रिहा कर दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार