BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 11 मई, 2009 को 06:41 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
पोलिंग एजेंट बनीं यौनकर्मी भी
 

 
 
यौनकर्मी रेखा और सपना
राजनीतिक दल सोनागाछी में प्रचार के दौरान यौनकर्मियों को बदलाव का भरोसा देते हैं.

किसी भी चुनाव के दौरान महिला यौनकर्मी वोट तो देती हैं लेकिन इस बार कोलकाता में वे पहली बार पोलिंग एजेंट भी बनेंगी.

सोनागाछी की छह यौनकर्मी महिलाओं को सरकार ने इस बार पोलिंग एजेंट का काम सौंपा है.

ये यौनकर्मी सोनागाछी इलाक़े में होने वाले मतदान के दौरान पोलिंग एजेंट के तौर पर काम करेंगी यानी वोट डालने में मतदाताओं की मदद करेंगी.

इन्हीं पोलिंग एजेंटों में शामिल हैं सपना और रेखा जो पिछले कई वर्षों से सोनागाछी में देह व्यापार कर रही हैं.

सपना कहती हैं, "हमने अख़बार में कहीं पढ़ा था कि सरकार के पास पर्याप्त संख्या में पोलिंग एजेंट नहीं हैं तो हमने सरकार से कहा कि क़रीब पाँच हज़ार यौनकर्मी यह कार्य कर सकते हैं."

लेकिन सभी यौनकर्मियों को ये काम क्यों नहीं मिला, इस पर सपना कहती हैं, "ये तो सरकार का फ़ैसला है, हम क्या कर सकते हैं. यौनकर्मियों को मुख्यधारा में लाने में इससे मदद ही मिलेगी."

बदलाव

सोनागाछी की बदनाम गलियों में हज़ारों की संख्या में लड़कियाँ इस देह व्यापार में लिप्त हैं और हर पाँच साल पर वो वोट भी डालती हैं लेकिन उनके जीवन में क्या कोई बदलाव आया है.

वोट से बदलाव
 आज से बीस साल पहले प्रॉक्सी वोटिंग होती थी यानी हम लोगों से फ़र्ज़ी मतदान कराया जाता था लेकिन अब हम ऐसा नहीं करते हैं. हमें पता है कि हमारे वोट की क़ीमत है. मैं तो सभी से कहती हूं कि उनके वोट से ही बदलाव आएगा
 
सपना

सपना कहती हैं, "आज से बीस साल पहले प्रॉक्सी वोटिंग होती थी यानी हम लोगों से फ़र्ज़ी मतदान कराया जाता था लेकिन अब हम ऐसा नहीं करते हैं. हमें पता है कि हमारे वोट की क़ीमत है. मैं तो सभी से कहती हूँ कि उनके वोट से ही बदलाव आएगा."

सोनागाछी में राजनीतिक दल चुनाव प्रचार भी करते हैं और यौनकर्मियों को बदलाव का भरोसा देते हैं लेकिन यौनकर्मियों को भी पता है कि ये भरोसा छोटी मोटी बातों का है. राजनेता उनके जीवन में कोई क्रांतिकारी बदलाव नहीं ला सकते.

सपना और रेखा जैसी अनेक यौनकर्मी महिलाएँ इस इलाक़े में हैं जिनके बच्चे भी हैं. ये बच्चे सोनागाछी में नहीं रहते बल्कि एक स्वयंसेवी संस्था द्वारा चलाए जा रहे एक छात्रावास में रहकर पढ़ाई करते हैं.

सपना के दो बच्चे हैं और सपना चाहती है कि उनके बच्चे बड़े होकर कुछ अच्छा कर सकें. सपना अब एक स्वयंसेवी संस्था के लिए पूरे समय काम करती हैं लेकिन वो उन दिनों को नहीं भूलतीं जब वो इस व्यवसाय में आई थीं.

अस्वीकृति

वो उन दिनों को याद करते हुए कहती हैं, "छोटी उम्र में शादी हो गई. ग़रीब परिवार था. मैं किसी के घर में काम करती थी और वहाँ मेरा शारीरिक शोषण होता था. मुझे पैसे चाहिए थे तो मैं मना नहीं कर पाती थी. इससे बचने की कोशिश की तो भूखे मरने लगी. मरती क्या न करती इस धंधे में आना पड़ा."

सोनागाछी की यौनकर्मियों की ज़िंदग़ी में बहुत बदलाव आया है.
रेखा अपनी कमाई से अपने मां बाप का भरण पोषण करती हैं

रेखा की कहानी थोड़ी सी अलग है. वो कहती हैं कि उन्हें छोटी उम्र में किसी ने इस धंधे में धकेल दिया. बड़ी होने पर जब उन्होंने वापस परिवार में आने की कोशिश की तो समाज ने उन्हें स्वीकार नहीं किया.

वो कहती है, "इसी धंधे की कमाई से अपने माँ बाप का भरण पोषण करती हूँ. बहन की शादी की. भाई को पढ़ाया. मेरे घर वालों को मेरे पेशे के बारे में पता है. मैं भी शादी कर के घर बसाना चाहती थी लेकिन समाज ने मुझे स्वीकार नहीं किया."

रेखा की एक बेटी है जो डॉक्टर बनना चाहती है.

यौनकर्मियों को अपने पेशे में आए दिन मुसीबतों का सामना करना पड़ता है और इससे सामना करने के लिए उन्हें पता नहीं क्या-क्या करना पड़ता है.

रेखा और सपना को लगता है कि पोलिंग एजेंट बनकर लोकतंत्र के महापर्व में शामिल होने से उनका महत्व थोड़ा बढ़ जाएगा जिससे वो खुद को और अपने साथियों को छोटी मोटी समस्याओं से निजात दिला पाएँगी.

 
 
कोलकाता में यौनकर्मी यौनकर्मियों के अधिकार
देह व्यापार से जीविका चला रही यौनकर्मी पेशे के लिए क़ानूनी अधिकार चाहती हैं.
 
 
अपना बैंक वेश्याओं का 'अपना बैंक'
तीन हज़ार से अधिक खाते हैं और कुल जमा पूंजी है आठ करोड़ रुपए.
 
 
पाकिस्तानी यौनकर्मी रानी पाकिस्तानी यौनकर्मी...
कोलकाता के रेडलाइट इलाक़े की महिलाओं से मिलकर हैरान रह गईं.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
उन्हें मिले 'मनोरंजनकर्मी' का दर्जा
27 फ़रवरी, 2007 | भारत और पड़ोस
लोकप्रिय हो रहा है यौनकर्मियों का बैंक
27 अक्तूबर, 2006 | भारत और पड़ोस
यौनकर्मियों ने बदलावों का विरोध किया
09 दिसंबर, 2005 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>