BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
बुधवार, 13 मई, 2009 को 04:06 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
मतदान की आँखों देखी: संवाददाताओं की ज़ुबानी
 
कोलकाता में मतदान
पश्चिम बंगाल में कुछ घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूवर्क रहा

भारत में 15वीं लोकसभा के चुनाव के अंतिम चरण के लिए मतदान समाप्त हो गया है.

भारतीय समयानुसार सुबह सात बजे से लेकर शाम पाँच बजे तक ये मतदान जारी रहा.

देश के विभिन्न क्षेत्रों में फैले बीबीसी संवाददाताओं ने चुनाव से जुड़ी हर पल की जानकारी दी और मतदान का आँखों देखा पेश किया.

पश्चिम बंगाल में कोलकाता से सुबीर भौमिक

सुबीर भौमिक

पश्चिम बंगाल में भारी मतदान की ख़बर है.

नौ स्थानों पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और तृणमूल कार्यकर्ताओं में झड़पें हुईं हैं जिनमें एक शख़्स की मौत हो गई है जबकि 17 लोग घायल हो गए.

हालाँकि प्रशासन की ओर से शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इतंज़ाम किए गए थे.

राज्य में पिछले 24 घंटों में हुई भारी बारिश से 101 मतदान केंद्रों के इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में पानी घुस जाने से मतदान रद्द करना पड़ा है, वहाँ अब गुरूवार को मतदान होगा.

पश्चिम बंगाल के मुख्य चुनाव अधिकारी देबाशीष सेन ने बताया, "बारिश से प्रभावित मतदान केंद्रों पर वोट नहीं डाले जा सके क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन काम नहीं कर रही थी."

राज्य में अधिकतर मतदान केंद्रों पर लोगों की ख़ासी भीड़ देखी गई. कोलकाता के कई मतदान केद्रों पर सुबह सुबह ही भारी संख्या में लोग वोट डालने पहुँचे.

महिलाएँ भी बड़ी संख्या में वोट डालने पहुँची. तृणमूल कांग्रेस और वामदलों के कार्यकर्ता यह सुनिश्चित करने की कोशिश में लगे रहे कि कैसे आम लोग ज़्यादा से ज़्यादा वोट डालने आएँ.

जम्मू कश्मीर में सोपोर से अल्ताफ़ हुसैन

अल्ताफ़ हुसैन

चुनाव के अंतिम चरण में कहीं कम, कहीं नहीं और कहीं बहुत ज्यादा वोटिंग हुई.

सोपोर कस्बे के शीलू में चुनाव के बहिष्कार की वजह से वोटिंग नहीं के बराबर हुई. यहाँ पर सैनिकों ने कुछ लोगों के आईडी कार्ड जब्त कर लिए थे और उनका कहना था कि लोग पहले वोट डालें फिर कार्ड ले जाएँ.

इस बात को लेकर स्थानीय लोगों में गुस्सा था और क़रीब 1500 लोग पोलिंग बूथ के बाहर जमा हो गए. उन्होंने ज़ोनल मजिस्ट्रेट की गाड़ी को जला डाला और वहाँ मौजूद कुछ गाड़ियों के साथ तोड़-फोड़ की.

पुलिस ने लाठी-चार्ज किया और हवाई फ़ायरिंग की. वहाँ किसी व्यक्ति के हताहत होने की अभी ख़बर नहीं है.

सोपोर में तीन बूथ पर छह वोट पड़े थे.

बारामूला लोकसभा क्षेत्र में पटन और बारामूला शहर के इलाक़ों में मतदान बहुत ही धीमा या नहीं के बराबर रहा, वहीं कुपवाड़ा के लंगेट और रफ़ियाबाद के इलाक़ों में मतदान केंद्रों पर औसत मतदान हुआ.

बारामूला से पृथकतावादी नेता सज्जाद ग़नी लोन के चुनावी मैदान में होने से यहां का मुक़ाबला काफ़ी दिलचस्प है.

यहाँ सीधा मुक़ाबला नेशनल कॉंफ़्रेंस पार्टी के शरफ़ुद्दीन शारिक़, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के मोहम्मद दिलावर और सज्जाद ग़नी लोन के बीच है.

शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे.

पंजाब में अमृतसर से मोहनलाल शर्मा

मोहनलाल शर्मा

अमृतसर में लोगों में मतदान को लेकर काफ़ी जोश दिखा. यहाँ विकास का मुद्दा प्रमुखता से उभरा है.

यहाँ बीएसपी और अन्य पार्टियाँ चुनावी होड़ में पीछे छूट गई दिखती हैं. मुख्य मुक़ाबला बीजेपी-अकाली गठबंधन और कांग्रेस के बीच है.

लुधियाना में कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी का एक पूर्व कांग्रेसी से मुक़ाबला है.

मतदान सुबह में धीमा रहा लेकिन धीरे-धीरे इसमें तेज़ी आई.

भाजपा के उम्मीदवार और पूर्व टेस्ट क्रिकेट खिलाड़ी नवजोत सिंह सिद्धू को कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिलती दिख रही है.

चंडीगढ़ से वंदना

वंदना

चंडीगढ़ संसदीय क्षेत्र में मतदान के लिए लोगों ने सुबह से ही केंद्रों पर आना शुरु कर दिया है. यहाँ 422 केंद्र बनाए गए हैं.

चंडीगढ़ के शहरी इलाक़ों में मतदान के प्रति लोगों में काफ़ी उत्साह दिखा.

भारतीय शहरों में आम तौर कम मतदान देखे गए हैं जिसकी तुलना में यहाँ ठीक-ठाक मतदान हुआ.

चंडीगढ़ में मुख्य मुक़ाबला कांग्रेस के प्रत्याशी पवन कुमार बंसल और भारतीय जनता पार्टी के सतपाल जैन के बीच है.

सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं, 26 सौ राज्य पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है तो वहीं अर्ध सैनिक बलों की दो कंपनियाँ लगाई गई हैं.

सुबह सवेरे जब हम सेक्टर 35 के सरकारी हाईस्कूल पहुँचे तो सात बजे से पहले ही लोगों की कतार लगने लगी थी, सुबह की सैर करने वाले सैर की बजाए सीधे मतदान केंद्र पहुँचे.

मतदाताओं में तो उत्सुकता थी जल्दी वोट करने की लेकिन मतदान प्रकिया थोड़ी देर से शुरु हुई.

सात बजे से पहले से ही क़तार में लगे मतदाताओं में इससे नाराज़गी थी और उन्होंने इस बारे में शिकायत भी की. पोलिंग एजेंट के देर से आने से ऐसा हुआ.

वोट डालने आने वालों में बुज़ुर्ग और युवा दोनों थे.

तमिलनाडु में चेन्नई से उमर फ़ारूक़

उमर फ़ारूक़

मध्य चेन्नई में हिंसा की घटना हुई जहाँ से डीएमके के दयानिधि मरान चुनाव लड रहे हैं. यहाँ डीएमके कार्यकर्ता और मुस्लिम मुनेत्र कजगम के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई जिसमें कज़गम के छह कार्यकर्ता घायल हो गए.

चेन्नई में जहाँ लोगों का मूड डीएमके के पक्ष में दिखा वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में एआईडीएमके के पक्ष में लोग दिखें.

संगीतकार रहमान के अलावा जयललिता और करुणानिधि ने भी वोट डाला. जयललिता ने एमआईडीएमके पर धाँधली का आरोप लगाया और चुनाव अधिकारी से छानबीन की माँग की.

जयललिता ने बताया कि 16 मई के बाद वह इस बात का फ़ैसला लेगी कि किसे समर्थन देना है.

चेन्नई और इसके आसपास के इलाक़ों में भारी संख्या में लोग अपना वोट डालने के लिए सुबह सबेरे ही मतदान केंद्रों पर आने लगे.

कई मतदान केंद्रों पर लोगों की बड़ी लंबी-लंबी क़तारें देखी गई.

देहाती इलाक़ों में शहरी इलाक़ों के मुक़ाबले में मतदान की गति तेज़ रही और लोगों में भी वहाँ अधिक उत्साह नज़र आया.

सेंट्रल चेन्नई में क़ायदे मिल्लत रोड पर एक जगह कई मतदान केंद्र बनाए गए है, जब मैं सुबह पहुँचा तो देखा कि लोगों की ख़ासी तादाद वोट डालने के लिए वहाँ पहुँच चुकी थी.

मंगलवार की रात शहर में बिजली गुल थी और आम मतदाता बातचीत में इसका अलग-अलग अर्थ निकाल रहे हैं.

जहाँ सतारूढ़ डीएमके समर्थकों का कहना है कि विपक्षी एआईएडीएमके ने मतदाताओं को लुभाने के लिए साज़िश के साथ बिजली गुल कराई है तो वहीँ एआईएडीएमके के समर्थकों का कहना है कि डीएमके ने आम मतदाताओं में पैसे बाँटने और मतदान में गड़बड़ी करने के लिए ऐसा किया है.

उधर जाने-माने अभिनेता कमल हासन ने मतदाता सूची में अपना नाम नहीं होने पर नाराज़गी जताई.

उत्तर प्रदेश से रामदत्त त्रिपाठी

रामदत्त त्रिपाठी

पूरे चुनावी मुहिम के दौरान राजनीतिक तापमान बढ़ाने वाले पीलीभीत लोकसभा क्षेत्र में बुधवार की सुबह-सुबह बारिश होने से मौसम ख़ुशगवार हो गया था और वहाँ मतदान केंद्रों पर बड़ी संख्या में लोगों को क़तारों में देखा जा सकता था.

पीलीभीत से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार वरुण गांधी के कथित भड़काऊ भाषण से वहाँ का माहौल सांप्रदायिक हो गया है फिर भी तीनों समुदायों- हिंदू, मुसलमान और सिख शांतिपूर्ण मतदान का हिस्सा बने.

बदाँयू के बेहताज़बी गाँव में सभी मतदाताओं ने मतदान का सामूहिक बहिष्कार किया. उनका कहना था कि विकास कार्य नहीं हुआ है.

बिजनौर के हलदौड़ में जितेंद्र कुमार एक व्यक्ति गिरफ़्तार किया गया क्योंकि उन्होंने ईवीएम मशीन तोड़ दी थी.

रामपुर से नितिन श्रीवास्तव

नितिन श्रीवास्तव

रामपुर की सिसायी जंग में जिस तरह से जोश रहा है उसी तरह से यहाँ के मतदान में उत्साह देखा जा गया.

सवेरे से मतदाता क़तारों में लगे हुए थे और समय के बढ़ने के साथ ही मतदान की गति में तेज़ी देखी गई.

कई मतदान केंद्रों को संवेदनशील घोषित किया गया था. उन मतदान केंद्रों पर शांतिपूर्ण मतदान के लिए प्रशासन ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी और भारी संख्या में सुरक्षाबल के जवानों को तैनात किया था.

रामपुर से भाजपा उम्मीदवार मुख़्तार अब्बास नक़वी, सपा उम्मीदवार जयाप्रदा और कांग्रेस उम्मीदवार नूर बानो के बीच सीधा मुक़ाबला है.

मतदान के दौरान माहौल का जायज़ा लेने के लिए ये तीनों अहम उम्मीदवार क्षेत्र का दौरा करते रहे.

मुरादाबाद में कांग्रेस के अज़हरुद्दीन बीएसपी के राजीव चान्ना और कुँवर सर्वेश सिंह पूरे दिन शहर का दौरा करते रहे.

मुरादाबाद में समुदाय के नाम पर वोट पड़ने की संभावना है.

रामुपर के ग्रामीण क्षेत्र में मतदान को लेकर ज्यादा उत्साह दिखा. शहर में ज्यादातर जयाप्रदा और बेगम नूर बानो की ही बात करते हुए लोग दिखे.

उत्तराखंड से महेश पांडे

राज्य में शांतिपूर्वक मतदान जहुआ. कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच सीधा मुक़ाबला है.

बारिश हो जाने से मौसम ख़ुशगवार रहा.

सबसे दिलचस्प मुक़ाबला हरिद्वार लोक सभा सीट पर है, जहाँ त्रिकोणीय मुक़ाबला है. यहाँ कांग्रेस प्रत्याशी हरीश रावत को बहुजन समाज पार्टी के मोहम्मद शहज़ाद कड़ी चुनौती दे रहे हैं. जबकि भारतीय जनता पार्टी भी मैदान में है.

राज्य के सभी पाँच लोक सभा क्षेत्रों के कुल 58 लाख मतदाता 76 उम्मीदवारों की क़िस्मत का फ़ैसला कर रहे हैं.

 
 
दिल्ली में मतदान मतदान: आँखों देखी
लोकसभा के अंतिम चरण का मतदान बीबीसी के संवाददाताओं की ज़ुबानी..
 
 
जयललिता तमिलों का मुद्दा
तमिलनाडु में 'श्रीलंकाई तमिलों की दुर्दशा' बड़ा चुनावी मुद्दा बनकर उभरा है.
 
 
आज़म-अमर लड़ाई
जया प्रदा अपनी ही पार्टी के दो दिग्गजों की लड़ाई में फँस चुकी हैं.
 
 
किसान किसानों की दुर्दशा..
कृषि प्रधान पंजाब में किसानों की दशा को किसी दल ने मुद्दा नहीं बनाया है...
 
 
चंडीगढ़ की झुग्गी बस्ती झुग्गियों का सच!
चंडीगढ़ के बीच बसी झुग्गियाँ विभिन्न दलों के लिए बड़ा वोट बैंक हैं.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
क्या होगा उत्तर प्रदेश में ?
15 अप्रैल, 2009 | चुनाव 2009
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>