4 नई भारतीय भाषाओं में बीबीसी सेवा होगी शुरू

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ब्रिटिश ब्राडकास्टिंग कारपोरेशन (बीबीसी) ने 11 नई भाषाओं में सेवाएं शुरू करने की घोषणा की है. यह बीबीसी की सेवाओं में 1940 के बाद किया गया सबसे बड़ा विस्तार है.

भविष्य में बीबीसी में नई भाषाओं में काम करने वाले लोगों की नियुक्तियों की सूचना आपको इस वेबसाइट पर मिलेगी, अभी नई भाषाओं के लिए नियुक्तियों के विज्ञापन नहीं आए हैं, इस साइट पर नज़र रखें.

ब्रिटेन की सरकार ने पिछले साल बीबीसी को बड़े पैमाने पर आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी. यह घोषणा उसी का परिणाम है.

नई सेवाएं अफ़ान ओरमो, अहरिक, गुजराती, लगबो, कोरियन, मराठी, पिडगिन, पंजाबी, तेलुगू, टिग्रिन्या और योरूबा भाषा में शुरू होंगी.

इनमें से पहली सेवा के 2017 में शुरू होने की योजना है.

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption बीबीसी के महानिदेशक टोनी हॉल.

सेवाओं के शुरुआत की घोषणा करते हुए बीबीसी के महानिदेशक टोनी हॉल ने कहा, '' यह बीबीसी के लिए ऐतिहासिक दिन है, जब हम 1940 के बाद से वर्ल्ड सर्विस के सबसे बड़े विस्तार की घोषणा कर रहे हैं.''

उन्होंने कहा, '' बीबीसी वर्ल्ड सर्विस, बीबीसी और ब्रिटेन के ताज में जड़ा एक रत्न है.''

उन्होंने कहा, ''बीबीसी को कुछ ही समय में सौ साल हो जाएंगे. मेरा विज़न है आत्मविश्वास से भरा बीबीसी जो बेहतरीन और निष्पक्ष पत्रकारिता को आगे बढ़ाए और दुनिया भर के आधे अरब लोगों तक पहुंचे...''

उन्होंने कहा, ''इस दिशा में यह एक महत्वपूर्ण क़दम है.''

इस परियोजना में बेहतर मोबाइल, वीडियो कंटेंट और सोशल मीडिया पर अधिक पहुंच के लिए डिजिटल सेवाओं का विस्तार शामिल है.

बीबीसी ने 2014 में शुरू हुए फ़ेसबुक पॉप-अप सर्विस की सफलता के बाद थाई भाषा में बुधवार को पूरी तरह से डिजिटल सेवा शुरू की है.

जिन सेवाओं का विस्तार होना है, उनमें शामिल है.

  • रूसी भाषा में न्यूज़ बुलेटिन का विस्तार, इसमें आसपास के देशों की भाषाओं के क्षेत्रीय कार्यक्रम भी होंगे.
  • अफ़ीका में टीवी सेवाओं का और विस्तार. इसमें पूरे सब सहारा अफ्रीका में सहयोगी प्रसारकों के लिए 30 नए प्रोग्राम शामिल हैं.
  • बीबीसी अरबी के लिए नए तरह की क्षेत्रीय प्रोग्रामिंग.
  • कोरिया के स्रोताओं के लिए शार्ट और मीडियम वेब पर रेडियो प्रोग्राम के अलावा ऑनलाइन और सोशल मीडिया सामग्री.
  • व्यापक एजेंडे के साथ वर्ल्ड सर्विस इंग्लिश में नए कार्यक्रमों और अधिक बेहतर पत्रकारिता में और अधिक निवेश.

बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के निदेशक फ्रैन अनस्वर्थ ने कहा, '' युद्ध, क्रांति और वैश्विक बदलाव के दौर में दुनियाभर के लोग स्वतंत्र, विश्वसनीय और निष्पक्ष ख़बरों के लिए बीबीसी वर्ल्ड सर्विस पर भरोसा करते हैं.''

उन्होंने कहा, ''एक स्वतंत्र प्रसारक के रूप में हम 21वीं सदी में प्रासंगिक बने हुए हैं, जब बहुत सी जगह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अधिक नहीं बल्कि कम हुई है.''

उन्होंने कहा, '' आज की घोषणा भविष्य में निवेश के ज़रिए वर्ल्ड सर्विस में पूरी तरह बदलाव के बारे में है.''

उन्होंने कहा, '' हम अपने श्रोताओं का अनुसरण करेंगे, जो कि बदलते हुए तरीक़ों से समाचारों को लेते हैं. टीवी पर वर्ल्ड सर्विस को देखने वाले लोगों की संख्या में इज़ाफा हो रहा है और बहुत सी सेवाएं अब केवल डिजिटल हैं.''

फ्रैन अनस्वर्थ ने कहा, '' हम अपने श्रोताओं ख़ासकर युवाओं के लिए अपनी डिजिटल सेवाओं के कायापलट की रफ़्तार बढ़ा पाएंगे और वीडियो न्यूज़ बुलेटिन में निवेश करते रहेंगे.''

उन्होंने कहा, '' हमारी प्रतिबद्धताओं में जो चीज़ नहीं बदलेगी, वो है स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता.''

नई सेवाओं के शुरू होने के बाद बीबीसी वर्ल्ड सर्विस की सेवाएं अंग्रेजी समेत 40 भाषाओं में उपलब्ध होंगी.

लॉर्ड हाल ने 2022 तक दुनियाभर में 50 करोड़ लोगों तक बीबीसी की पहुंच बनाने का लक्ष्य तय किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)