बीबीसी इंडिया बोल... लाइव टेक्स्ट

IST 2029 बीबीसी इंडिया बोल में आज इतना ही. इंतज़ार करें अगले मंगलवार तक और तबतक आपके साथ है बीबीसी हिंदी डॉट कॉम..हर पल, हर क्षण. नमस्कार.

IST 2028 बीबीसी इंडिया बोल में बहस और आगे जाना चाहती है पर समय की घड़ियां यहीं तक. आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया.

IST 2027 बीबीसी इंडिया बोल में बहस फिर रोमांचक मोड़ पर. गरमागरम तर्कों के साथ.

IST 2026 वो कहते हैं कि सचिन अपने रिटायरमेंट का सही समय जानते हैं. वो अच्छा खेल रहे थे. उन्हें खेलने देना चाहिए.

IST 2026 दिल्ली के किंग्स वे कैंम्प से एक कॉलर कहते हैं कि सचिन के शरीर को मालूम है कि उसे कब आराम चाहिए.

IST 2025 मुकेश कहते हैं कि उनकी पिच पर रणनीति जीत के लिए नहीं, रिकॉर्ड के लिए नहीं.

IST 2024 देहरादून से जीतेंद्र कहते हैं कि मुकेश की बात ग़लत है. फाइनल की ज़िम्मेदारी टीम की है. न कि केवल एक खिलाड़ी की.

IST 2023 बिहार के पुर्णिया से मुकेश कहते हैं कि सचिन अपने रिकॉर्ड के लिए खेलते हैं, टीम के लिए नहीं.

IST 2022 एक कॉलर जोड़ती हैं तर्क कि सचिन अपने दम पर प्रदर्शन करते हैं.

IST 2020 अजमेर से एक श्रोता कहते हैं कि सचिन अच्छे खिलाड़ी हैं. भले ही वो फाइनल में अपना बेहतर प्रदर्शन नहीं दे पाते.

IST 2018 यशवर्धन रावत कहते हैं कि सचिन औऱ खेलें. अब सवाल यह उठता है कि सचिन पर टीम को न जिता पाने का इल्ज़ाम क्यों लगता है.

IST 2015 बीबीसी इंडिया बोल में अब बारी ऑनलाइन की प्रतिक्रियाओं की.

IST 2013 बीबीसी इंडिया बोल में बहस गर्म हो चुकी है. विषय है सचिन के रिटायरमेंट का.

IST 2012 एक नए कॉलर कहते हैं कि जब क्रिकेट का जिक्र होता है तो सचिन का ही नाम होता है.

IST 2011 ताराचंद ने कहा कि सचिन देश को पीछे ढकेल रहे हैं. लीना सचिन के बचाव में आती हैं. कहती हैं कि बाकी टीम क्या करती है.

IST 2010 लीना कहती हैं कि राजनेताओं के रिटायरमेंट की बात तो हम नहीं कर रहे. फिर सचिन के पीछे क्यों पड़े हैं. वो भी तब जब उनका प्रदर्शन अच्छा है.

IST 2009 निखिल कहते हैं कि 20 खेल चुके...20 बरस और खेलें सचिन.

IST 2008 बिहार से एक और श्रोता जुड़ते हैं. निखिलकांत पाठक कहते हैं कि सचिन को हमेशा भारतीय टीम में रहना चाहिए. रिटायर होने के बाद भी.

IST 2007 लीना ने गंगाधर की बात का विरोध किया. कहा, मैच जिताना टीम की ज़िम्मेदारी न कि एक खिलाड़ी की. फिर सचिन की आलोचना क्यों.

IST 2006 एक और श्रोता जुड़ती हैं. लीना सिंह... वो कहती हैं कि सचिन खेलते रहें. उनके लिए खेलना ज़रूरी है.

IST 2005 कार्यक्रम में बहस हो रही है गर्म. सचिन के मुद्दे पर समर्थन और विरोध की आवाज़ें बहस में.

IST 2004 गंगाधर कहते हैं कि खिलाड़ी तब रिटायर हो जब उससे पूछा जाए कि अभी क्यों- इसकी तीखी आलोचना पर गंगाधर आंकड़ों की बात करते हैं.

IST 2003 इलाहाबाद से गंगाधर द्विवेदी कहते हैं कि सचिन ने एक भी वर्ल्डकप भारत को नहीं दिलाया.

IST 2002 बीबीसी के इस कार्यक्रम में जुड़े पहले श्रोता हैं मुकेश. कहते हैं कि अभी तो परवान पर चढ़ रहे हैं सचिन. क्यों लें संन्यास. एक और कॉलर कहते हैं कि वो विश्वकप भी खेलें.

IST 2001 बीबीसी हिंदी ऑनलाइन की एक टिप्पणी से कार्यक्रम की शुरुआत.

IST 2000 बीबीसी इंडिया बोल के साथ स्टूडियो में हैं रूपा झा. कार्यक्रम में शामिल हैं आप

IST 1959 बीबीसी इंडिया बोल में आपका स्वागत है.

IST 1957 बीबीसी इंडिया बोल की टीम आ चुकी है स्टूडियो में. स्वागत है आपका. मैं हूँ पाणिनि आनंद

IST 1933 बीबीसी इंडिया बोल में शामिल हों, ऑनलाइन और रेडियो के ज़रिए...लाइव

IST 1917 बीबीसी इंडिया बोल में शामिल होने के लिए आएं टोल फ्री नंबर 1800-11-7000 पर या hindi.letters@bbc.co.uk पर

IST 1916 इसबार का विषय है- क्या सचिन को अब रिटायर हो जाना चाहिए...?

IST 1915 बीबीसी इंडिया बोल की ओर से आप सभी का स्वागत. अब से कुछ देर में यानी 45 मिनट बाद हम होंगे आपसे रूबरू...लाइव