क्या आरक्षण से महिलाएँ पहुँचेंगी संसद तक?

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

IST 2029: आखिर में रूपा कहती हैं कि ये देखना बाकि है कि समानता की ये लड़ाई कब खत्म होगी

IST 2028: दीपक गुजरात से कहते हैं कि देश में आरक्षण का लाभ अबतक नहीं दिखा है

IST 2027: आरिफ बिहार से कहते हैं कमज़ोर तबकों की महिलाओं को खास तवज्जो देनी चाहिए

IST 2026: दु्र्गेश कहते हैं कि शिक्षा के साथ आरक्षण देने से महिलाएं आगे बढ़ेंगी

IST 2025: प्रेम वर्मा कहते हैं कि आरक्षण के बिना ही महिलाएं बहुत ऊँचाई पर पहुंची हैं

IST 2024: रूपा पूछ रही हैं कि क्या महिलाओं का काम करना परिवार पर बुरा असर डालता है

IST 2023: रूपा पूछ रही हैं कि महिलाओं का क्या मत है

IST 2022: दुर्गेश कहते हैं महिलाएं अपने परिवार के साथ बाहर का काम सफलता से कर रही हैं

IST 2021: दुबई से तर्जुद्दीन कहते हैं कि महिलाओं को घर में ही रहना चाहिए

IST 2020: मध्य प्रदेश से दुर्गेश कहते हैं कि पुरुषों को इसका समर्थन करना चाहिए

IST 2019:दुर्गेश दिल्ली से कहते हैं कि जागरुकता बढ़ाना ज़्यादा ज़रूरी है

IST 2018: पवन कुमार गुप्ता कहते हैं कि इससे सिर्फ पैसे वाली महिलाओं को ही फायदा होगा

IST 2016: रूपा पूछती हैं कि दुनिया की आधी आबादी को मदद क्या नहीं मिलनी चाहिए

IST 2015: लक्ष्मिकांत कहते हैं कि महिलाएं अभी भी काफी पीछे हैं

IST 2014: सौरभ चौबे कहते हैं कि आरक्षण से महिलाएं ज़रूर आगे बढ़ेंगी

IST 2013: सविता कहती है कि आरक्षण का मतलब है कि आप काबिलियत को महत्व नहीं दे रहे हैं

IST 2011: पटेल कहते हैं कांग्रेस सरकार चाहे तो बिल पास हो सकता है

IST 2010: सविता प्रथिमेश छत्तीसगढ़ से कहती हैं कि सबसे अहम् बात है कि आरक्षण और महिलाओं की स्थिति में सुधार होने में कोई संबंध नहीं है.

IST 2009: सौरभ कहते हैं साठ साल पहले दलितों के बारे में भी यही कहा जाता था

IST 2008: सौरभ चौबे कहते हैं कि पति की बात कुछ दिन तो ये महिलाएँ सुनेंगी लेकिन देर तक नहीं राबरी का उदाहरण लें..ये श्रोता दूरदृष्टि नहीं रखते

IST 2007: शिवा विद्यार्थी बनारस कहते हैं ये सही नहीं..गाँव में आरक्षण किया..उनके पति काम कराते हैं तो संसद में कैसे ये स्थिति सुधरेगी

IST 2006: दिल्ली से चुन्नू राय उमेश राय से सहमत हैं. वे भी कहते हैं पार्टियाँ अपने यहाँ आरक्षण क्यों नहीं देतीं महिलाओं को..

IST 2004: उमेश राय दरभंगा से कहते हैं कि सरकार इससे संसद को कमज़ोर करना चाहती है क्योंकि पैसे वालों की महिलाओं को ही राजनीतिक नेता जुटे हैं

IST 2003: जया डामसेल कहती हैं कि इसके विरोधियों को पुनर्विचार करना चाहिए क्योंकि आज़ादी के 60 साल बाद भी उन्हें प्रतिनिधित्व नहीं मिला है

IST 2000: कार्यक्रम शुरु हो गया है. इसका हिस्सा बनें...लाइव टेक्स्ट के ज़रिए या कॉल करें टोल फ्री नंबर 1800-11-7000 पर.

IST 1951: कार्यक्रम बस नौ मिनट में...

IST 1949:आज का कार्यक्रम प्रस्तुत कर रही हैं रूपा झा, जो स्टूडियो में पहुँच गई हैं.

IST 1932: कार्यक्रम में लाइव हिस्सा लें लाइव टेक्स्ट के ज़रिए या कॉल करें टोल फ्री नंबर 1800-11-7000 पर.

IST 1928: इस बार का विषय है - क्या आरक्षण से महिलाएँ पहुँचेंगी संसद तक?

IST 1925: बीबीसी इंडिया बोल की ओर से आपका स्वागत. अब से कुछ देर में हम होंगे आपसे रूबरू...लाइव.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.