बीबीसी इंडिया बोल... लाइव टेक्स्ट

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

20:29 IST- इसके साथ ही आज का ये कार्यक्रम यहीं समाप्त होता है. अगले कार्यक्रम में आपसे फिर मुलाक़ात होगी.

20:27 IST- रामकिशोर झा दलितों की इस स्थिति के लिए पहले से ही चली आ रही व्यवस्था को ज़िम्मेदार मानते हैं.

20:26 IST- दिल्ली से अमित का कहना है कि दलितों की ख़राब स्थिति के लिए ख़ुद दलित भी काफ़ी हद तक ज़िम्मेदार हैं क्योंकि वो ये समझ ही नहीं पा रहे हैं कि उनका शोषण कौन कर रहा है.

20:25 IST- गाडरे कहते हैं कि समाज के सभी वर्गों को इसके लिए आगे आना होगा

20:23 IST- मल्हार से गाडरे कहते हैं कि दलितों का शोषण करने वालों को दंड के कड़े प्रावधान होने चाहिए.

20:21 IST- मोतीबाग, दिल्ली से महेश कहते हैं कि भारतीय शिक्षा पद्धति भी दलितों की ख़राब स्थिति के लिए ज़िम्मेदार है.

20:20 IST- रविंदर भट्ट का कहना है कि दलितों को बहुत अधिकार दिए गए हैं और समाज में उन्हीं को सम्मान मिलता है जो उसके लायक होते हैं.

20:18 IST- मुंबई से पंकज कहते हैं कि दलितों को सिर्फ़ वोट के लिए छला गया है.

20:17 IST- यूएई से गुलाम सरवर कहते हैं कि दलित उपेक्षित हैं लेकिन स्थिति में बदलाव हुआ है.

20:16 IST- इशहाक अहमद का मानना है कि शहरों में बदलाव ज़रूर आए हैं लेकिन गांवों में स्थिति अभी भी ठीक नहीं है.

20:14 IST- माला राम बिश्नोई, झालावाड़, राजस्थान कहते हैं कि शिक्षा में गुणात्मक परिवर्तन से दलितों की स्थिति में बदलाव लाया जा सकता है.

20:13 IST- मोहम्मद सलीम फिर कहते हैं कि बदलाव काफी आया है लेकिन अभी बहुत कुछ परिवर्तन आना बाक़ी है.

20:12 IST- लेकिन अंजू कहती हैं कि बाड़मेर जैसे इलाक़े में दलितों के साथ आज भी वैसा ही व्यवहार हो रहा है जैसा कि पहले होता था.

20:12 IST- उत्तर प्रदेश के एटा ज़िले से भीषम बहस में हिस्सा लेते हुए कहते हैं कि ये कहना ठीक नहीं है कि दलितों के साथ न्याय नहीं हुआ. काफी कुछ सुधार हुआ है, ख़ासकर उनकी सामाजिक और राजनीतिक स्थिति में.

20:10 IST- हरियाणा में पिछले दिनों मेजपुर गांव में मारी गई एक विकलांग लड़की की मां का कहना है कि उनके साथ न्याय नहीं हुआ.

20:09 IST- इलाहाबाद से मोहम्मद सलीम का कहना है कि सरकारी नीति का आधार जाति से तय नहीं होता.

20:08 IST- ग्रेटर नोएडा से मनीष भी अंजू की बात से सहमत हैं.

20:06 IST- बाड़मेर से ही अंजू कहती हैं कि दलितों पर होने वाले अत्याचार का विरोध सभी लोग मिलकर क्यों नहीं करते

20:03 IST- बाड़मेर से अली मोहम्मद ख़ान कहते हैं कि दलितों का ये हाल क्षेत्रीय नेताओं की वजह से हुआ है.

20:02 IST- ग्रेटर नोएडा से एक श्रोता कहते हैं कि शोषण समाज के हर वर्ग के लोगों का हो रहा है सिर्फ दलितों का ही नहीं

20:01 IST- बाड़मेर से रणवीर चौधरी कहते हैं कि साठ साल बाद भी दलितों का कोई हमराही नहीं बन पाया.

19:50 IST- कार्यक्रम को पेश करने के लिए रूपा झा स्टूडियो में पहुंच चुकी हैं.

19:48 IST - इस बार इंडिया बोल का विषय है कि क्या दलितों को समान अधिकार मिल पाए हैं?

19:46 IST - कार्यक्रम में सीधे शामिल होने के लिए 1800117000 डॉयल करें

19:45 IST - बीबीसी हिंदी के लाइवटेक्सट में आपका स्वागत है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.