2003 में इराक़ी बच्चे की मौत, ब्रितानी सैनिकों की निंदा

इराक़ युद्ध में एक बच्चे को कथित रूप से जबरन नहर में धकेलने और फिर डूबने देनेवाले चार ब्रितानी सैनिकों का मामला ब्रिटेन में सुर्खियों में है.

इस मामले की जांच कर रहे जज ने अपनी रिपोर्ट में घटना की निंदा की है.

15 साल के अहमद जब्बार करीम अली की मई 2003 में बसरा में मौत हो गई थी. उन्हें लूटपाट करने के संदेह में हिरासत में लिया गया था.

इमेज कॉपीरइट OTHER

जज की रिपोर्ट में कहा गया है कि अहमद को हिरासत में नहीं लिया जाना चाहिए था, या फिर उन्हें नहर में जबरन नहीं उतारा जाना था और जब वो डूब रहे थे, तो उन्हें बचाया जाना चाहिए था.

रक्षा मंत्रालय ने इस पूरे मामले पर खेद व्यक्त किया है.

अहमद लूटपाट के आरोप में पकड़े गए चार संदिग्धों में शामिल थे जिन्हें शात अल बसरा नहर में जबरन पानी में उतरने को कहा गया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मामले की जांच कर रहे पूर्व हाईकोर्ट जज सर जॉर्ज न्यूमैन ने अपनी रिपोर्ट में सैनिकों के व्यवहार को गैरजिम्मेदाराना करार दिया है.

जज ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, "बच्चे की मौत इसलिए हुई क्योंकि सैनिकों ने उसे नहर में प्रवेश करने को मजबूर किया. वे उसे डूबते हुए देखते रहे और बचाने का प्रयास नहीं किया."

मामले में शामिल चार सैनिकों को साल 2006 में हुए कोर्ट मार्शल में हत्या के आरोप से बरी कर दिया गया था.

इराक युद्ध में सद्दाम हुसैन को अमरीकी नेतृत्व वाली गठबंधन सेना ने राष्ट्रपति पद से अपदस्थ कर दिया था. इस लड़ाई में कम से कम डेढ़ लाख इराकी मारे गए थे जबकि दस लाख से ज्यादा इराकी नागरिक विस्थापित हो गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)