अमरीकी चुनाव में द. एशियाई बयार किस ओर

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका में राष्ट्रपति पद के लिए चल रही चुनावी मुहिम में डेमोक्रेट्स प्रत्याशी हिलेरी क्लिंटन और रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप के बीच पहली टीवी बहस के बाद राजनीतिक माहौल और गरमा गया है.

आमतौर पर अमरीका में रहने वाले दक्षिण एशियाई मूल के अधिकांश लोगों का रुझान डेमोक्रेट्स की ओर रहा है. लेकिन इस बार दक्षिण एशियाई मूल के कुछ लोग रिपब्लिकन पार्टी का भी समर्थन कर रहे हैं.

भारतीय मूल के पीयूष अग्रवाल पिछले 30 साल से अमरीका में रह रहे हैं और उन्हें डोनल्ड ट्रंप से बहुत उम्मीदें हैं.

पीयूष अग्रवाल कहते हैं, "टीवी बहस के बाद भी जनता को दोनों उम्मीदवारों के बारे में कोई नई बात पता नहीं चली. अगली बार शायद कुछ अच्छी बहस हो. मैं समझता हूं कि हिलेरी क्लिंटन जीतीं तो कोई बदलाव नहीं आएगा और लोग बदलाव चाहते हैं. इसलिए डोनल्ड ट्रंप का जीतना अमरीका के लिए अच्छा होगा."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पहली टीवी बहस में डॉनल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन

वहीं भारतीय मूल के राम बाबू मानते हैं कि हिलेरी क्लिंटन का अमरीकी राजनीति और सरकार में रहने का अनुभव अमरीका के लिए अच्छा साबित होगा.

राम बाबू कहते हैं, "मैं तो हिलेरी क्लिंटन को ही वोट दूंगा, क्योंकि उनके पास अनुभव हैं. यहां न्यूयॉर्क में तो क्लिंटन को ही अधिक समर्थन है. डोनल्ड ट्रंप को तो सरकार चलाने का अनुभव भी नहीं है और अधिकतर लोग उन्हे पसंद भी नहीं करते हैं. उन्होंने मुसलमानों के बारे में जो बातें कही हैं, उसके बाद मुसलमान भी उन्हें वोट नहीं देंगे. इसके अलावा एशियाई मूल के बहुत से दूसरे लोग भी ट्रंप को वोट नहीं देंगे."

पेशे से वकील बांग्लादेशी मूल के रफ़ीक अहमद न्यूयॉर्क में 35 साल से रह रहे हैं. वे अमरीकी चुनावों में भरपूर दिलचस्पी लेते हैं. वे मानते हैं कि डोनल्ड ट्रंप राष्ट्रपति बनने लायक ही नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पहली टीवी बहस के बाद एक दूसरे से हाथ मिलाते हुए डॉनल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन

रफ़ीक अहमद ने बीबीसी से कहा, "ट्रंप आज एक बात कहते हैं, कल कह देते हैं कि हमने ऐसा नहीं कहा है. ट्रंप बच्चों जैसा बर्ताव करते हैं. उनको राजनीति भी नहीं आती है. हिलेरी क्लिंटन तो पक्की राजनीतिज्ञ हैं और उनको अनुभव भी है. अमरीकी राष्ट्रपति बनने के लिए ऐसी सलाहियत हो कि दुनिया भर पर हुक़ूमत कर सके, और ट्रंप में तो वह नहीं है."

यानी इस मुद्दे पर अमरीका का दक्षिण एशियाई मूल बंटा हुआ है.

हिलेरी क्लिंटन और डोनल्ड ट्रंप के बीच अगली टीवी बहस 9 अक्टूबर को होने वाली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार