डोनल्ड ट्रंप की दान संस्था और टैक्स रि़टर्न पर नए आरोप

इमेज कॉपीरइट Reuters

न्यूयॉर्क के अटार्नी जनरल ने अमरीका में राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप की दान संस्था को आदेश दिया है कि वह चंदा इकट्ठा करना बंद करे.

उनकी संस्था को इस मामले में नोटिस जारी किया गया है. जांच में पाया गया है कि ट्रंप की दान संस्था रजिस्टर्ड नहीं है.

इस बीच ट्रंप ने ये दावा किया है कि उन्होंने कम से कम टैक्स भरने के लिए क़ानून का इस्तेमाल किया है.

उन्होंने कोलारेडो में अपने समर्थकों से कहा कि एक उद्योगपति होते के नाते उनकी ज़िम्मेदारी थी कि वे कर कानून का इस्तेमाल अपने, अपने निवेशकों और अपने कर्मचारियों के फ़ायदे के लिए करें.

ट्रंप पर उनके टैक्स रिटर्न को आम करने को लेकर भारी दबाव है.

राष्ट्रपति पद के दोनों उम्मीदवारों के बीच हुई बहस में डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने ये आरोप लगाये थे कि ट्रंप अपना टैक्स रिटर्न इसलिए नहीं शेयर करना चाहते हैं क्योंकि वो कुछ छुपा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

द न्यूयॉर्क टाइम्स ने रविवार को जानकारी दी थी कि उनके पास ट्रंप के 1995 के कुछ कर दस्तावेज़ हैं जिनसे पता चलता है एक अरब डॉलर का नुक़सान होने के बाद ट्रंप क़ानूनी तौर पर 18 साल तक कर चुकाने से बच गए थे.

रियल एस्टेट उद्योगपति ट्रंप के कैंप ने इस रिपोर्ट का न तो खंडन किया और न ही इससे इनकार किया है. लेकिन आरोप लगाया कि दस्तावेज़ ग़ैरक़ानूनी तरीक़े से हासिल किए गए हैं.

ट्रंप ने कहा, "मैं अपने जटिल टैक्स क़ानूनों को अब तक के राष्ट्रपति पद के सभी उम्मीदवारों से बेहतर जानता हूँ और मैं ही इन्हें ठीक कर सकता हूं."

इमेज कॉपीरइट Reuters

डोनल्ड ट्रंप ने अपनी दान संस्था के क़ानन के उलंघन को लेकर कुछ कहने से मना किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार