पाकिस्तान हमारा पक्का दोस्त: चीन

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption ब्रिक्स में पाकिस्तान के बचाव में आया चीन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पाकिस्तान को 'आंतकवाद की जननी' कहने के एक दिन बाद ही चीन पाकिस्तान के बचाव में आ गया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, चीन ने दृढ़ शब्दों में कहा कि वो किसी भी देश या धर्म को आंतकवाद से जोड़ने के ख़िलाफ़ है. चीन ने विश्व समुदाय से पाकिस्तान के 'महान बलिदानों' को स्वीकार करने का आह्वान भी किया.

गोवा में ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की पाकिस्तान के बारे की गई टिप्पणी पर पूछे गए सवाल के जवाब में चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने ये प्रतिक्रिया दी.

उन्होंने कहा कि चीन किसी भी देश को आतंकवाद से जोड़ने के ख़िलाफ़ है.

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत के ख़िलाफ़ आंतकवादी संगठनों को आर्थिक मदद और बढ़ावा देने के मुद्दे पर मोदी की पाकिस्तान की आलोचना पर चुनयिंग ने कहा ''आतंकवाद का मुक़ाबला करने के मुद्दे पर चीन का रुख एक जैसा रहा है."

उन्होंने कहा, "ठीक उसी तरह चीन किसी देश को आंतकवाद से जोड़ने के विरोध में है. हम आतंकवाद के हर रूप का विरोध करते हैं और मानते हैं कि सभी देशों में स्थिरता और सुरक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ठोस प्रयासों की ज़रूरत है.''

उन्होंने कहा, ''हम किसी भी जाति या धर्म से आतंकवाद को जोड़ने का विरोध करते हैं. हमारा लंबे समय से यही रुख़ रहा है. चीन और पाकिस्तान पक्के दोस्त हैं.''

चुनयिंग ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों 'आतंकवाद से पीड़ित' हैं. उन्होंने कहा, "इस्लामाबाद ने आंतकवाद का मुक़ाबला करने के लिए महान बलिदान किए हैं और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसे स्वीकार करने की ज़रूरत है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)