अल-अक़्सा मस्जिद यहूदियों की नहीं

इमेज कॉपीरइट AP

संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक शाखा यूनेस्को की कार्यकारी बोर्ड ने एक विवादित प्रस्ताव को पारित करते हुए कहा है कि यरूशलम में मौजूद ऐतिहासिक अल-अक्सा मस्जिद पर यहूदियों का कोई दावा नहीं है.

यूनेस्को की कार्यकारी समिति ने ये प्रस्ताव पास किया है. पिछले सप्ताह इसराइल ने यूनेस्को से अपने सारे संपर्क स्थगित कर लिए थे जब संस्था ने अरबों के ज़रिए पेश किए गए इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी.

इस प्रस्ताव में कहा गया था कि अल-अक़्सा मस्जिद पर मुसलमानों का अधिकार है और यहूदियों से उसका कोई ऐतिहासिक संबंध नहीं है.

हालांकि अब तक यहूदी उसे टेंपल माउंट कहते रहे हैं और यहूदियों के लिए यह एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल माना जाता रहा है.

यूनेस्को कार्यकारी समिति के अध्यक्ष माइकल वोर्ब्स ने मंगलवार को होने वाले मतदान को स्थगित करने की कोशिश की थी ताकि कोई बीच का रास्ता निकाला जा सके, लेकिन ऐसा नहीं हो सका.

इस बीच यूनेस्को की प्रमुख इरीना बोकोवा ने कहा कि कोई ऐसी जगह नहीं जहां यहूदियों, ईसाइयों और मुसलमानों की धार्मिक और सांस्कृतिक धरोहर यरूशलम से ज़्यादा मौजूद हों.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)