आईएस पर हमला, मोसुल से सीरिया की ओर पलायन

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शरणार्थियों के लिए काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने बीबीसी को बताया है कि मोसुल से निकलकर नौ सौ से अधिक लोग सीरिया पहुंचे हैं.

सीमा पार कर आए इन लोगों को सीरिया में बने शरणार्थी शिविरों में रखा गया है.

इराक़ी सुरक्षा बल मोसुल को इस्लामिक स्टेट (आईएस) से मुक्त कराने के लिए दो दिन से फ़ौजी अभियान चला रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

अभियान के शुरू होने के बाद यह पहला मौक़ा है जब आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया गया है कि बड़ी संख्या में लोग मोसुल से निकल रहे हैं.

इतनी बड़ी संख्या में लोगों के मोसुल से निकलने का मतलब यह है कि जैसे-जैसे इराक़ी सैनिक और कुर्द लड़ाके आगे बढ़ रहे हैं आईएस लोगों को वहां से निकलने से रोक नहीं पा रहा है.

एक अनुमान के मुताबिक़ मोसुल में क़रीब 15 लाख लोग रह रहे हैं. वहां आईएस के क़रीब पांच हज़ार लड़ाके होने का अनुमान है.

'नागरिकों का ढाल में रूप में इस्तेमाल'

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी नेतृत्व वाले गठबंधन ने कहा है कि उन्होंने दस गांवों से आईएस को खदेड़ दिया है.

वहीं अमरीका ने आरोप लगाया है कि इराक़ी सुरक्षा बल जैसे-जैसे इस्लामिक स्टेट (आईएस) के मज़बूत गढ़ मोसुल के नज़दीक बढ़ रहे हैं, आईएस नागरिकों का इस्तेमाल ढाल के रूप में कर रहा है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि मोसुल से लोगों को निकालने के लिए योजनाएं और संसाधन तैयार हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वाशिंगटन में मंगलवार को रक्षा मंत्रालय पेंटागन के प्रवक्ता जेफ़ डेविस ने आईएस की ओर से आम लोगों का इस्तेमाल ढाल के रूप में करने की पुष्टि की.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स को मोसुल के कुछ निवासियों ने फ़ोन पर बताया था कि आईएस ने कुछ लोगों को उन इमारतों की ओर जाने को कहा है, जिनको हवाई हमले में निशाना बनाया जा सकता है.