अमरीकी चुनाव- रूस, यौन शोषण, इराक़, इमिग्रेशन पर भिड़े ट्रंप-हिलेरी

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिटंन ने एक दूसरे पर कई आरोप लगाए हैं और दोनों के बीच तीखी बहस हुई है.

दोनों उम्मीदवार रूस, इमिग्रेशन, महिलाओं के अधिकार, गन क्रंट्रोल, गर्भपात, र्इराक़ के मुद्दों पर भिड़े हैं.

जहाँ हिलेरी ने आरोप लगाया कि ट्रंप के आने से रूस के साथ परमाणु अप्रसार की संधियां रद्द हो जाएँगी, वहीं डोनल्ड ट्रंप ने सीधे तौर पर हिलेरी और राष्ट्रपति ओबामा पर अपनी एक रैली में हिंसा कराने का आरोप लगाया.

ट्रंप पर महिलाओं के यौन शोषण के आरोपों का मुद्दा हिलेरी ने बार-बार उठाया. हिलेरी ने आरोप लगाया कि ट्रंप माफ़ी नहीं मांगते हैं, महिलाओं का सम्मान नहीं करते हैं और हिंसा की सराहना करते हैं.

लेकिन ट्रंप ने योन शोषण से जुड़े मुद्दों पर लगाए गए आरोपों का पूरी तरह से खंडन किया.

हिलेरी ने कहा कि गर्भपात के मुद्दे पर वो महिलाओं के आधिकारों की रक्षा करेंगी. उन्होंने ये भी कहा कि वो एलजीबीटी समुदायों के अधिकारों की भी रक्षा करेंगी.

उधर ट्रंप ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यदि वो चुने जाते हैं तो गर्भपात को वैध ठहराते हुए जो फ़ैसला लिया गया था उसे पलट दिया जाएगा.

ट्रंप और क्लिंटन इमिग्रेशन यानी आप्रवासन के मुद्दे पर भी भिड़े हैं. ट्रंप ने कहा कि वो अमरीका-मेक्सिको के बीच दीवार बनाएंगे और अमरीका में अवैध तरीके से रह रहे लोगों को वापस भेजेंगे.

उधर हिलेरी ने कहा कि वो परिवारों को एक दूसरे से अलग करने के ख़िलाफ़ हैं और चुने जाने के 100 दिनों के भीतर व्यापक सुधार वाली इमिग्रेशन पॉलिसी लेकर आएंगी.

अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप और डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिटंन के बीच लास वेगस में तीसरी और आख़िरी प्रेसिडेंशियल डिबेट हुई. अमरीकी चुनाव आठ नवंबर को होगा.

'ट्रंप रूस की जासूसी की निंदा करें'

हिलेरी ने डोनल्ड ट्रंप को चैलेंज किया कि वो रूस की हैकिंग की निंदा करें जिसके ज़रिये उनके मुताबिक रूस अमरीका के राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करना चाहता है.

हिलेरी ने बहस के दौरान कहा कि ट्रंप साफ़ साफ़ बतायें कि वो रूसी जासूसी की निंदा करते हैं कि नहीं.

उन्होंने आरोप लगाया कि ट्रंप परमाणु अप्रसार के मुद्दों पर की गई संधियों को रद्द कर देंगे.

ट्रंप ने फ़ौरन बार्डर खुला रखने का मुद्दा उठा दिया. उन्होंने कहा कि सीरिया और परमाणु मिसाइलों के मुद्दे पर राष्ट्रपति पुतिन ने हिलेरी और राष्ट्रपति ओबामा से ज़्यादा स्मार्ट साबित हुए हैं.

बाद में ट्रंप ने कहा, "पुतिन मेरे दोस्त नहीं हैं, लेकिन अगर रूस और अमरीका साथ-साथ काम करते हैं तो ये बेहतर होगा."

'दीवार ज़रूर बनेगी, अवैध प्रवासी वापस जाएंगे'

ट्रंप ने कहा है कि यदि वो चुने गए तो वो अमरीका-मेक्सिको के बीच दीवार बनाएँ और अवैध तौर पर अमरीका में रह रहे लोगों को आम माफ़ी देने के ख़िलाफ़ हैं.

रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप ने कहा, "हमें ऐसी सीमा चाहिए जो मज़बूत हो, हमें दीवार चाहिए, मैं ये बनाऊंगा. मैं ड्रग लोर्ड्स को बाहर निकालूँगा. हिलेरी यहाँ अवैध तरीके से रह लोगों के लिए आम माफ़ी चाहती हैं, ऐसा नहीं होना चाहिए. वो खुले हुए बॉर्डर चाहती हैं."

हिलेरी का कहना था कि वो चुने जाने के 100 दिन में व्यापक इमिग्रेशन प्लान लाएंगी ताकि बाद में इन लोगों को नागरिकता दी जा सके.

उधर हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि अमरीका में 1.5 करोड़ लोग आधिकारिक कागज़ात के बिना रह रहे हैं जिनमें 1.1 करोड़ लोग और उनके 40 लाख बच्चे हैं. उनका कहना था कि लोगों

डेमोक्रैट हिलेरी क्लिंटन ने कहा, "ट्रंप कहते हैं कि वो अवैध तरीके से रह रहे सभी लोगों को अमरीका से निकाल देंगे. इसका मतलब है कि परिवार अलग हो जाएंगे क्योंकि अवैध तरीके से रह रहे अनेक लोगों के बच्चे यहां पैदा हुए हैं. इसका मतलब अधिकारियों की बड़ी संख्या यही काम करेगी. मैं मज़बूत सीमा के हक में हूँ. "

इराक़ के मुद्दे पर मतभेद

हिलेरी क्लिंटन ने इराक के मुद्दे पर साफ़ तौर पर कहा कि वो इराक़ में अमरीकी सेना को ज़मीनी लड़ाई के लिए भेजने के पक्ष में नहीं हैं.

उधर ट्रंप ने कहा कि इराक़ के मामले में असली विजयी पक्ष ईरान होगा. ट्रंप ने अमरीका और ईरान के बीच हुई परमाणु संधि की भी निंदा की.

अंत में हिलेरी ने कहा कि वो सभी अमरीकियों से - डेमोक्रेटिक हो यां रिपब्लिकन - अपील करती हैं कि उन्हें समर्थन दें क्योंकि वो परिवारों को प्राथमिकता देंगी, छात्रों को आगे पढ़ने में मदद करेंगी और ताकतवर लोगों के प्रभाव के उन्हें बचाएंगी.

उधर ट्रंप ने आखिर में वही नारा दोहराया कि वो अमरीका को दुबारा महान बनाएंगे और कहा कि क़ानून-व्यवस्था को मज़बूत बनाने के लिए सेना और पुलिस को बल देंगे.