हिलेरी ने रिपब्लिकन के लिए किया था प्रचार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डेमोक्रेटिक पार्टी ने इस बार एक महिला, हिलेरी क्लिंटन को अमरीकी राष्ट्रपति पद के चुनाव का उम्मीदवार बनाया है.

हिलेरी क्लिंटन, पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पत्नी हैं. वे अमरीका की फर्स्ट लेडी के अलावा सीनेटर भी रह चुकी हैं. हिलेरी, बराक ओबामा प्रशासन में विदेश मंत्री भी रह चुकी हैं.

ख़ुद को तरक़्क़ीपसंद कहने वाले अमरीका में पहली बार कोई महिला राष्ट्रपति चुनाव लड़ रही है.

इमेज कॉपीरइट Tim Boyle/Newsmakers via Getty Image
Image caption हिलेरी का बचपन इलिनॉय के पार्क रिज़ के इस घर में बीता था

हिलेरी क्लिंटन का जन्म 26 अक्तूबर 1947 को अमरीका के शिकागो शहर में हुआ था. उनके पिता ह्यू रॉडहम अमरीकी नौसेना में थे. वे अनुशासन पसंद करते थे और बहुत ग़ुस्से वाले थे.

हिलेरी की मां डोरोथी का बचपन बिना मां-बाप के बीता था और वे अपने पहले बच्चे यानी हिलेरी को बेहद प्यार करती थीं. अनुशासनप्रिय पिता ने हिलेरी को हमेशा यही समझाया कि जो काम लड़के कर सकते हैं, वो हिलेरी भी कर सकती हैं.

इमेज कॉपीरइट Afro American Newspapers/Gado/Getty Images
Image caption मार्टिन लूथर किंग 1966 में एक रैली में बोलते हुए

एक मध्यम वर्गीय परिवार में सामान्य बचपन गुज़ारने वाली हिलेरी क्लिंटन की ज़िंदगी में पहली अहम तारीख़ थी 15 अप्रैल 1962. उस दिन शिकागो में काले लोगों को समान अधिकारों के लिए आंदोलन करने वाले मशहूर नेता मार्टिन लूथर किंग ने अपना एक भाषण ख़त्म करने के बाद 15 साल की मासूम लड़की हिलेरी क्लिंटन से हाथ मिलाया था.

गोरों की बस्ती में एक काले नेता का एक गोरी लड़की से हाथ मिलाना उस दौर के अमरीका के लिए सामान्य घटना नहीं थी. हिलेरी क्लिंटन कहती हैं कि मार्टिन लूथर किंग से वह मुलाक़ात उनके ऊपर गहरी छाप छोड़ गई.

आज, हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हैं. लेकिन शुरुआती सालों में उनका राजनैतिक झुकाव रिपब्लिकन पार्टी की तरफ़ था.

इमेज कॉपीरइट Miller/BIPs/Getty Images
Image caption हिलेरी ने हाई स्कूल में पढ़ते हुए रिपब्लिकन उम्मीदवार बैरी गोल्डवाटर के लिए प्रचार किया था

हिलेरी ने 1964 के राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार बैरी गोल्डवाटर के लिए प्रचार किया था. हालांकि उस वक़्त हिलेरी हाई स्कूल में थीं और वोट नहीं डाल सकती थीं. लेकिन उन्होंने चुनाव प्रचार में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था.

पर, हिलेरी का रिपब्लिकन पार्टी से यह लगाव ज़्यादा दिनों तक नहीं चला. हिलेरी ने पढ़ाई के लिए मशहूर येल यूनिवर्सिटी में दाख़िला लिया था. यहां उनकी मुलाक़ात बिल क्लिंटन से हुई.

इमेज कॉपीरइट Wellesley College and Getty Images.
Image caption कॉलेज में पढ़ते हुए ही हिलेरी को बिल क्लिंटन से प्रेम हो गया

दोनों में एक-दूसरे को देखते ही प्यार हो गया. दोनों ने अपना पहला घर एक-साथ मिलकर ही लिया. पढ़ाई के दौरान ही बिल और हिलेरी ने 1972 के चुनावों में डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रत्याशी मैक्गवर्न के पक्ष में प्रचार किया.

1974 का साल अमरीकी राजनीति के अहम पड़ावों में से एक है. इस साल उस वक़्त के राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन, वाटरगेट स्कैंडल में फंस गए थे. निक्सन पर आरोप था कि उन्होंने डेमोक्रेटिक पार्टी के दफ़्तर में चोरी कराई, ताकि वो विरोधी पार्टी की तैयारियों को पहले से जान लें और उसकी काट खोज सकें.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption वॉटरगेट कांड की सुनवाई के दौरान हिलेरी क्लिंटन

वकीलों की एक फ़ौज, निक्सन के ख़िलाफ़ सबूत जमा कर रही थी. हिलेरी क्लिंटन ने भी एक वकील के तौर पर इस काम में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था.

इस सबूत जमा करने का मक़सद था, निक्सन के ख़िलाफ़ महाभियोग साबित करना. लेकिन निक्सन ने उससे पहले ही इस्तीफ़ा दे दिया.

निक्सन के इस्तीफ़े के बाद हिलेरी ने अरकांसस यूनिवर्सिटी में क़ानून पढ़ाने की नौकरी शुरू कर दी. वहीं बिल क्लिंटन भी अपनी राजनैतिक जड़ें जमाने में जुटे थे. साल 1974 मे क्लिंटन अरकांसस के गवर्नर का चुनाव केवल 6 हज़ार वोटों से हार गए थे.

इसी दौरान हिलेरी और बिल ने 11 अक्तूबर 1975 को शादी कर ली. दोनों की शादी उनके अपने मकान के लिविंग रूम में ही हुई थी. पांच साल बाद 1980 में हिलेरी और बिल की बेटी चेल्सी क्लिंटन का जन्म हुआ.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हिलेरी और बिल क्लिंटन ने 1975 में शादी कर ली

साल 1992 में बिल क्लिंटन ने अमरीकी राष्ट्रपति पद के लिए दावेदारी ठोकी. बिल क्लिंटन हमेशा कहते थे कि उन्हें राष्ट्रपति चुनने से एक के बदले दो क़ाबिल लोग देश को मिलेंगे.

वे अपने साथ हिलेरी क्लिंटन का नाम जोड़ते थे. बिल को इसके लिए मुश्किलों का भी सामना करना पड़ा कि क्या वे कामकाज में हिलेरी को दख़ल का अधिकार देने वाले हैं.

इसी दौरान बिल क्लिंटन के जेनिफ़र फ्लॉवर्स नाम की महिला से लंबे अफ़ेयर का पता चला. हालांकि बिल और हिलेरी दोनों ने इससे इनकार किया. 3 नवंबर 1992 को बिल क्लिंटन अमरीका के राष्ट्रपति चुन लिए गए. और इस तरह हिलेरी, अमरीका की फ़र्स्ट लेडी बन गईं.

बिल क्लिंटन के पहले कार्यकाल में 1996 में व्हाइटवाटर स्कैंडल नाम के भ्रष्टाचार का इल्ज़ाम लगा.

इमेज कॉपीरइट PAUL RICHARDS/AFP/Getty Images
Image caption साल 1996 में सुनवाई के बाद फ़ेडरल कोर्ट से बाहर निकलती हुई हिलेरी

आरोप था कि बिल और हिलेरी ने जिम मैक्डॉगल नाम के शख़्स के साथ रियल एस्टेट के सौदे में धांधलियां की थीं. इस मामले में हिलेरी की कोर्ट में पेशी भी हुई. अदालत के सामने पेश होने वाली, हिलेरी क्लिंटन किसी पहले अमरीकी राष्ट्रपति की पत्नी थीं.

1998 में अमरीका में उस वक़्त सियासी तूफ़ान मच गया जब राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के व्हाइट हाउस की इंटर्न मोनिका लेविंस्की से अफ़ेयर के चर्चे आम हुए. पहले तो बिल क्लिंटन ने इससे इनकार किया. इसका असर बिल और हिलेरी की शादी पर भी पड़ा. बाद में बिल ने अपनी ग़लती मान ली और हिलेरी ने उन्हें माफ़ कर दिया.

इमेज कॉपीरइट https://twitter.com/monicalewinsky
Image caption मोनिका लेविंस्की के साथ बिल क्लिंटन के रिश्ते के चर्चे आम हो गए

बिल क्लिंटन का कार्यकाल ख़त्म होने से पहले ही हिलेरी क्लिंटन ने सीनेटर का चुनाव लड़ा और जीता भी. वे दो बार न्यूयॉर्क राज्य से सीनेटर चुनी गईं.

सीनेटर का कार्यकाल ख़त्म होते ही हिलेरी ने राष्ट्रपति चुनाव की तैयारी शुरू कर दी थी. मगर 2008 में डेमोक्रेटिक पार्टी के भीतर ही उम्मीदवारी के लिए उनका सामना बराक ओबामा से हुआ.

ओबामा की नीतियां लोगों को ज़्यादा पसंद आईं और वो राष्ट्रपति चुने गए. मगर चुनाव जीतते ही ओबामा ने हिलेरी क्लिंटन को अपनी सरकार में विदेश मंत्री पद का प्रस्ताव दिया, जिसे हिलेरी ने मंज़ूर कर लिया.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption हिलेरी क्लिंटन सीनेटर और विदेश मंत्री भी बनीं

हिलेरी क्लिंटन के विदेश मंत्री रहते हुए 11 अक्तूबर 2012 को चरमपंथियों ने लीबिया के बेनग़ाज़ी शहर में अमरीकी दूतावास पर हमला किया. इसमें राजदूत क्रिस स्टीवेंस समेत चार लोग मारे गए.

विरोधियों ने इसे हिलेरी और ओबामा की नाकामी बताया और कहा कि वो अमेरिकी हितों की सुरक्षा करने में नाकाम रहे. उनका यह आरोप भी था कि खुफ़िया एजेंसियों की चेतावनी के बावजूद सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई, जिससे अमरीकी राजदूत मारे गए.

इमेज कॉपीरइट Pete Souza/The White House via Getty Images
Image caption ओसामा बिन लादेन के ख़िलाफ़ चला अभियान देखते हुए हिलेरी क्लिंटन

तमाम विवादों के बीच ओबामा के दूसरे कार्यकाल में हिलेरी ने विदेश मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया.

उसी समय से लगने लगा कि हिलेरी क्लिंटन अगला राष्ट्रपति चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही हैं.

इसीलिए उन्होंने ओबामा सरकार से किनारा कर लिया है, ताकि जब वे चुनाव मैदान में उतरें तो ओबामा सरकार की नाकामियों का बोझ उनके सिर पर न हो.

इमेज कॉपीरइट AP

साल 2015 में राष्ट्रपति चुनाव का प्रचार शुरू होते ही हिलेरी क्लिंटन एक और विवाद में फंस गईं. पता चला कि विदेश मंत्री रहते हुए हिलेरी ने सरकारी कामकाज के लिए निजी ई-मेल इस्तेमाल किया था.

आरोप सही पाए गए, लेकिन अमरीकी जांच संस्था एफ़बीआई (फ़ेडरल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टिगेशन) ने इसके लिए हिलेरी पर कोई केस करने से इनकार कर दिया.

अब हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार के तौर पर जनता के सामने हैं.

यदि चुनाव में उनके नाम पर मुहर लगती है तो वे अमरीका की पहली महिला राष्ट्रपति बन जाएंगी. उनके साथ कई और चीज़ें भी पहली बार होंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार