फ़र्ज़ी कॉल सेंटर से जुड़े 20 लोग गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट AP

भारत में फ़र्ज़ी कॉल सेंटर चलाने वाले इंटरनेशनल रैकेट से जुड़े 61 लोगों पर अमरीका की एक अदालत में आरोप पत्र दाख़िल किए गए हैं.

अंतरराष्ट्रीय ठगी के इस मामले में अभियुक्त बनाए गए 61 लोगों में अमरीका और अन्य देशों के नागरिकों को शामिल किया गया है.

इसमें पांच कॉल सेंटर समूहों को भी अभियुक्त बनाया गया है. अमरीकी सरकार के अनुसार इस घोटाले में कम से कम 15000 लोगों को धोखाधड़ी का शिकार बनाया गया है.

अमरीका में असिस्टेंट अटॉर्नी जनरल लैसेली कॉडवेल के अनुसार अधिकारियों ने आठ राज्यों में नौ वारंट जारी किए हैं और 20 लोगों को गिरफ़्तार भी किया है.

भारत में मुंबई के पास ठाणे में पुलिस ने चार अक्तूबर को बहुत बड़े पैमाने पर नौ कॉल सेंटरों पर छापे मारे गए और 70 से अधिक लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पुलिस ने बताया कि सैकड़ों करोड़ की ठगी का मामला सामने आया है और इस ठगी के शिकार अमरीकी नागरिक हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC hindi

मीरा रोड और अहमदाबाद में चल रहे इन कॉल सेंटरों से अमरीका फ़ोन किया जाता था और वहां के नागरिकों से कहा जाता कि यह कॉल अमरीकी टैक्स विभाग आईआरएस यानी इंटरनल रेवेन्यू सर्विस की ओर से है.

भारत में कॉल सेंटर्स के पास अमरीकी नंबर लेने की सुविधा है या फिर ऐसे सॉफ़्टवेयर हैं जो कॉलर आईडी पर अमरीकी नंबर दिखाते हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC Hindi

अमरीकी नागरिकों को उनकी टैक्स गड़बड़ियों का हवाला देकर डराया जाता था, कॉल सेंटर को ऐसे लोगों के बारे में जानकारी कुछ अमरीकी एजेंट दिया करते थे.

कॉल सेंटर से फ़ोन करने वाले ये नकली आईआरएस अधिकारी, अमरीकी नागरिकों को उनके टैक्स फ़र्म की गलतियां, पुरानी छिपाई हुई आय के बारे में बताते और फिर जेल और भारी जुर्माने की धमकी देते थे.

घबराकर फ़ोन पर बात करने वाला व्यक्ति अपनी ग़लती मान लेता और फिर कार्रवाई रोकने के बदले में मोटी रक़म देने को तैयार हो जाता था.

इमेज कॉपीरइट BBC Hindi

हैरानी की बात यह है कि इस पूरे मामले का सरगना एक 23 साल के लड़के को माना जा रहा है जिसका नाम सागर ठक्कर है और कॉल सेंटर में काम करने वाले उसके दोस्त, उसे सैगी कहकर बुलाते थे.

सागर ठक्कर इस समय अपनी बहन के साथ देश से फ़रार बताए जा रहे हैं लेकिन सागर के गुरु माने जाने वाले जगदीश कनानी को मुंबई के बोरीवली इलाके से गिरफ़्तार कर लिया गया है.

इमेज कॉपीरइट BBC Hindi

बीपीओ की आड़ में चल रहे इस गोरखधंधे में सिर्फ़ भरोसे के आदमी को ही शामिल किया जाता था. कई लोगों को यह भी कहा गया कि वो हिंदुस्तानियों को नहीं लूट रहे बल्कि अमरीका में मौजूद काला धन यहाँ ला रहे हैं और इसके लिए पुलिस भी उन्हें परेशान नहीं करेगी.

हर चांगली (सफल 'डील' का कोडवर्ड) कॉल करने वाले को दो डॉलर प्रति कॉल, टैक्स अधिकारी बनकर डराने वाले को तीन से चार डॉलर प्रति कॉल और फिर डील करने वाले को सात डॉलर प्रति कॉल के हिसाब से पैसा मिलता.

इमेज कॉपीरइट BBC Hindi

इसके बाद आने वाली रक़म दुबई या सिंगापुर और कभी-कभी अमरीका के किसी विदेशी अकाउंट से होते हुए सागर तक पहुंचती और गिरफ़्तार हुए सागर के नज़दीकी सहयोगी हैदर ने पुलिस को बताया कि इसका 30 फ़ीसदी अमरीकी एजेंट को देने के बाद बाकी की रकम का 40 फ़ीसदी पार्टनर्स को दिए जाते और 60 फ़ीसदी सागर रखता.

एफ़बीआई की सूचना के अनुसार, अमरीका में इस तरह की शिकायत साल 2013 में पहली बार आई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)