ले गई दिल गुड़िया जापान की

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

सदियों से जापान में गुड़िया रोज़मर्रा की ज़िंदगी का एक हिस्सा रही है. काबुकी जापान की वो दुनिया है जो अपने डांस ड्रामा के लिए जानी जाती है और ये गुड़िया काबुकी की दुनिया से आती हैं जो अपनी खास तरह के केश सज्जा के लिए जानी जाती हैं.

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

हर तीन मार्च को बेटियों वाले जापानी परिवार बेटियों के अच्छे स्वास्थ्य और ख़ुशी के लिए हिना मस्तूरी नाम का एक त्यौहार मनाते हैं, जिसे गुड़ियों और लड़कियों का त्योहार माना जाता है.

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

गुड़ियों के इस त्योहार का इतिहास क़रीब हज़ार साल पुराना है, जो इडो काल (1603-1868) से शुरू होता है, जब यह परंपरा शुरू हुई कि जापानी कैलेंडर के तीसरे महीने के तीसरे दिन गुड़िया दिखाने के लिए रखा जाता है.

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

इशिमात्सू गुड़िया जो बच्चों के लिए जानी जाती है . आज भी जापान के हर घर में हिना मस्तूरी मनाया जाता है. इस त्योहार से कुछ दिन पहले ही लड़कियां और उनकी माँएं हिना को बाहर निकाल लेती हैं और उन्हें एक लाल कपड़े पर सजा लेती हैं.

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

जापानी भाषा में हिना मतलब गुड़िया और मात्सुरी मतलब उत्सव या पर्व होता है. गुड़ियों के देश जापान का ये पर्व भी गुड़ियों की तरह ही प्यारा और अनोखा है.

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

जापान का इवात्सुकी शहर गुड़ियों के लिए मशहूर है. यहाँ हर तरह की गुड़ियों का निर्माण होता है जो पेपर,लकड़ी और कपड़ों से बनाई जाती है.

इमेज कॉपीरइट Indu pandey

जापानी परिवार में पहली लड़की के पैदा हनी पर गुड़ियों का पूरा सेट लिया जाता है जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक चलता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)