बिल के स्कैंडल से हिलेरी को नुक़सान?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाउला जोंस, मोनिका लेविंस्की और जेनिफ़र फ्लॉवर्स

अमरीका में डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन, पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पत्नी हैं और उनका ख़ुद का बेहद शानदार सियासी करियर रहा है.

मगर चुनावों में उन पर अपने काम में कमी से ज़्यादा पति बिल क्लिंटन के किरदार को लेकर हमले झेलने पड़ रहे हैं.

बिल क्लिंटन के राजनीतिक करियर में कुछ महिलाओं से संबंध की बात सामने आई थी. सभी मामलों में बिल ने पहले इनकार किया और फिर रिश्तों की बात क़बूली थी. हर विवाद के दौरान हिलेरी ने बिल का साथ दिया और चट्टान की तरह उनके साथ खड़ी रहीं.

हिलेरी का अपने पति का साथ निभाना, राष्ट्रपति चुनाव के दौरान उन पर भारी पड़ रहा है.

डोनल्ड ट्रंप ने हिलेरी क्लिंटन पर इस हवाले से कई बार तीखा हमला किया है. ट्रंप ने आरोप लगाया कि बिल क्लिंटन के संबंधों की ज़िम्मेदार हिलेरी क्लिंटन थीं. ट्रंप का आरोप है कि हिलेरी असल में बिल की बेवफ़ाई में मददगार बनीं और बाद में हिलेरी ने उन महिलाओं को परेशान किया.

ट्रंप ने तो एक बेहद विवादित ट्वीट भी किया था, जिसमें उन्होंने लिखा कि जो हिलेरी अपने पति को संतुष्ट नहीं कर सकतीं, वो अमरीका को क्या संतुष्ट करेंगी.

हालांकि बाद में ट्रंप ने ये ट्वीट डिलीट कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption व्हाइट हाउस में क्रिसमस पार्टी के दौरान बिल क्लिंटन और मोनिका लेविंस्की.

अपने पूरे राजनीतिक करियर में हिलेरी, महिला अधिकारों की समर्थक रही हैं. ऐसे में ये इल्ज़ाम कि वो पति के विवाहेतर रिश्तों में मददगार थीं, ज़्यादा ही कह जाने जैसा है.

लेकिन, बिल क्लिंटन के तमाम अफेयर्स पर हिलेरी के रवैये पर सवाल उठते रहे हैं. हाल ही में न्यूयॉर्क टाइम्स ने बिल क्लिंटन के दूसरी महिलाओं से रिश्तों में हिलेरी के रोल पर तीखे सवाल खड़े किए थे.

ये बात और है कि बिल क्लिंटन के अफेयर्स सामने आने के बाद हिलेरी ने ख़ुद भी बहुत सी मुश्किलें झेली थीं. एक तरफ पति और बेटी थी. दूसरी तरफ उनका आत्मसम्मान था. और फिर सवाल पति के शानदार सियासी करियर का भी था.

जीवनसाथी की 'बेवफ़ाई' से अकेले में निपटना ही बेहद तकलीफ़देह होता है. बात जब दुनिया के सामने हो तो मुश्किलें और बढ़ जाती हैं.

लेकिन, जिस तरह से बिल क्लिंटन की साथी रही महिलाओं से निपटा गया, वो हिलेरी के किरदार पर सवाल खड़े करता है. फिर चाहे वो जेनिफ़र फ्लॉवर्स हों, पाउला हों या मोनिका लेविंस्की.

एक बार जब बिल क्लिंटन ने रिश्तों की बात स्वीकार कर ली, तो इन महिलाओं के ख़िलाफ़ मुहिम सी छेड़ दी गई. इन महिलाओं के किरदार पर ही सवाल उठाए गए. न्यूयॉर्क टाइम्स ने आरोप लगाया है कि इन महिलाओं को बदनाम करने में हिलेरी का रोल रहा था.

इमेज कॉपीरइट AFP

1992 में हिलेरी ने एस्क्वायर पत्रिका को इंटरव्यू में भी इस बारे में ख़ासा विवादास्पद बयान दिया था.

इन परिस्थितियों में यदि किसी महिला पर पति का करियर संवारने में जुटे होने के आरोप लगते हैं तो सवाल उठने लाज़मी हैं, फिर चाहे वो महिला चाहे हिलेरी क्लिंटन हों या कोई और.

क्लिंटन दंपति ने अपना सम्मान और करियर बचाने के लिए एक निजी जांच एजेंसी की मदद ली थी जिसने बिल से जुड़ी महिलाओं के बारे में ढूंढ़-ढूंढ़कर बातें निकाली थीं. मक़सद था इन महिलाओं को निशाना बनाना और बिल क्लिंटन का करियर बचाना.

अब सवाल ये है कि हिलेरी की इसमें रज़ामंदी थी या नहीं? बात कुछ भी रही हो, हिलेरी ने खुलेआम मोनिका लेविंस्की और जेनिफर फ्लावर्स को निशाना बनाया था.

यही मसले, अमरीका की युवा महिलाओं को हिलेरी क्लिंटन से दूर करने की वजह बने हैं. युवा महिलाओं को लगता है कि चाहे पति का मामला हो या किसी और का, किसी महिला को दूसरी महिला का साथ देना चाहिए, न कि उसका विरोध करना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट AP

बार-बार इन महिलाओं को निशाना बनाकर हिलेरी और बिल क्लिंटन जिस तरह ख़ुद को पाक-साफ़ साबित करने पर तुले थे, वो आज की महिलाओं को पसंद नहीं आता है.

नब्बे के दशक में भले ही हर हाल में पति का साथ निभाना महिलाओं को पसंद आता रहा हो. आज की महिलाएं मानती हैं कि मुश्किल वक़्त में एक महिला को दूसरी औरत का साथ देना ही चाहिए. इससे पति या किसी और अपने को नुक़सान पहुंचे तो पहुंचे. ख़ास तौर से उन हालात में जब किसी ताक़तवर शख़्स के साथ किसी महिला के संबंध की बात हो....

अमरीका में यौन शोषण की शिकार हुई महिलाएं आज ये बात बर्दाश्त करने को राज़ी नहीं कि उनका शोषण करने वाले आदमी के साथ एक महिला खड़ी हुई थी. ये बात आपसी सहमति से बने रिश्तों के ख़राब होने की सूरत में भी लागू होती है. किसी औरत का दूसरी महिला को शर्मिंदा करना आज कोई युवा महिला पसंद नहीं करती.

लेकिन, बिल क्लिंटन के तमाम अफेयर्स के मामले में हिलेरी क्लिंटन ने यही किया था. इसी बात ने डोनल्ड ट्रंप को हिलेरी पर हमला करने का मौक़ा दे दिया है.

इमेज कॉपीरइट AP

हालांकि हिलेरी क्लिंटन की टीम कहती हैं कि ये दक्षिणपंथियों की साज़िश भर है. जब बिल क्लिंटन ओवल ऑफिस में थे और उनके अफ़ेयर्स की बात आई, तब आज की पीढ़ी की ज़्यादातर महिलाएं पैदा भी नहीं हुई थीं. ऐसे में उनके लिए ये बहुत पुरानी बात हो चुकी है और संभवत: उनके वोट करने के फ़ैसले पर असर नहीं डालेगी.

अब हिलेरी की प्रचार टीम इसको भले ही कोई रंग दे, ये उनके उम्मीदवार की अच्छी छवि तो नहीं पेश करती.

देखना होगा कि 8 नवंबर को वोटर के दिमाग़ में हिलेरी क्लिंटन की ये बातें कितना असर डालती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे