'आईएस लड़ाके हथियार डाल दें, वरना मारे जाएंगे'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इराक़ की काउंटर टेरिज्म सर्विस (सीटीएस) की टुकड़ियां मूसल से पहले गांव बाज़वाया में दाखिल हो चुकी हैं

इराक़ी सैनिकों के मूसल पर शिकंजा कसने के बीच प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों से हथियार डालने देने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि ऐसा यदि वे आत्मसमर्पण नहीं करते तो उनके सामने सिर्फ़ मौत का विकल्प बचेगा.

उत्तरी इराक़ के एक एयरबेस में मौजूद अल-अबादी ने कहा कि आईएस चरमपंथियों के पास भागने का कोई रास्ता नहीं बचा है.

उन्होंने कहा कि इराक़ी फ़ौज चारों तरफ़ से आगे बढ़ रही है और जल्द ही सांप को कुचल दिया जाएगा.

सोमवार को इराक़ी फ़ौज मूसल से महज़ एक किलोमीटर के फ़ासले पर थी, जो इराक़ में जिहादियों का आख़िरी गढ़ है.

इराक़ी सुरक्षा बल अमरीकी नेतृत्व वाले गठबंधन के साथ मूसल को इस्लामिक स्टेट (आईएस) से मुक्त कराने के लिए कई दिनों से फ़ौजी अभियान चला रहे हैं.

सोमवार को सुबह एक हमला करने के बाद इराकी सेना की काउंटर टेरिज्म सर्विस (सीटीएस) टुकड़ियां इस शहर की सीमा से पहले पड़ने वाले आखिरी गांव बाज़वाया में दाखिल हो चुकी हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मूसल की सरहद के आखिरी गांव बाज़वाया में इराक़ी सैनिक

इराक़ी सेना के साथ सफ़र कर रहे हैं बीबीसी के एक संवाददाता ने बताया कि वहां इसका कुछ विरोध भी हो रहा है. सैनिकों के इस दल पर कार बम से हमले हो रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मूसल के आखिरी गांव में इराक़ी सेना का विरोध भी हुआ

इस दौरान इराकी सेना की नवीं डिविजन की यूनिट दक्षिण की तरफ़ आगे बढ़ रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)