इमरान ने शरीफ़ के ख़िलाफ़ आंदोलन रद्द किया

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान ख़ान ने बुधवार को सरकार के ख़िलाफ़ शुरू होने वाले बड़े आंदोलन को रद्द कर दिया है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने ख़बर दी है कि इमरान ख़ान ने तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि वे इसके बदले विजय उत्सव मनाने के लिए रैली निकालें.

इमरान ख़ान ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से मांग की थी कि वे पनामा पेपर्स में शामिल कंपनियों से अपने रिश्तेदारों के कथित संबंधों की जांच करवाने पर राज़ी हो जाएं.

लेकिन सरकार के इनकार के बाद इमरान ख़ान ने अदालत का दरवाज़ा खटखटाया था.

इसी मुद्दे पर उन्होंने बुधवार को बड़े आंदोलन की घोषणा की थी. रविवार को पुलिस के साथ उनके समर्थकों की झड़प हुई. इसके बाद पुलिस ने तहरीक-ए-इंसफ़ पार्टी के कार्यकर्ताओं पर आंसू गैस के गोले छोड़े थे और कई लोगों को गिरफ़्तार कर लिया था.

मंगलवार को पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने एलान किया कि वह एक न्यायिक आयोग बनाएगा, जो प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के परिवार वालों पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगा.

पनामा की मोसाक फ़ोंसेका कंपनी के लाखों काग़ज़ात में सामने आया था कि किस तरह दुनिया भर के अमीर लोग टैक्स चोरी और प्रतिबंधों से बचने के लिए विदेशी खातों का इस्तेमाल करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार