सैमसंग पर रिश्वतख़ोरी मामले में छापे

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption कोरियाई राष्ट्रपति माफ़ी मांगते हुए

दक्षिण कोरिया में दिग्गज इलेक्ट्रॉनिक कंपनी सैमसंग के दफ़्तरों पर छापे मारे गए हैं.

ये राष्ट्रपति पार्क गुएन-हाए से संबंधित एक सियासी स्कैंडल में हो रही जांच का हिस्सा हैं.

अभियोजक उन आरोपों की जांच कर रहे हैं, जिनके मुताबिक़ सैमसंग ने राष्ट्रपति पार्क की क़रीबी दोस्त और सहायक चोई सून-सिल की बेटी को नाजायज़ तरीक़े से वित्तीय मदद दी.

चोई इस पूरे सियासी बवाल के केंद्र में हैं. उन पर इल्ज़ाम है कि उन्होंने सियासत में दख़ल देने और बिज़नेस डोनेशन हासिल करने के लिए राष्ट्रपति से अपनी दोस्ती का इस्तेमाल किया.

उधर सैमसंग का कहना है कि वो जांच में पूरा सहयोग देगी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पार्क के ख़िलाफ़ जनता का ग़ुस्सा बढ़ रहा है

प्रॉसिक्यूटर ऑफ़िस के प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "हम सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के दफ़्तरों की तलाशी ले रहे हैं."

हालांकि उन्होंने इसका ब्योरा देने से इनकार कर दिया.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़ सैमसंग ने संभवत पार्क की क़रीबी चोई के लिए 28 लाख यूरो का इंतज़ाम किया, ताकि उनकी बेटी जर्मनी में इक्येस्ट्रियन ट्रेनिंग ले सकें.

चोई फ़र्ज़ी मामले और ताक़त का दुरुपयोग करने के आरोप में फ़िलहाल हिरासत में हैं.

इस सियासी तूफ़ान ने पार्क के लिए हालात काफ़ी ख़राब बना दिए हैं और उनसे इस्तीफ़ा देने की मांग की जा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)