किसने ट्रंप को वोट दिया, किसने क्लिंटन को

इमेज कॉपीरइट EPA

डोनल्ड ट्रंप ने डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को हराते हुए राष्ट्रपति पद की दौड़ जीत ली है. लेकिन दोनों नेताओं के वोट शेयर को लेकर किए गए सर्वे पर नज़र डालें, तो दोनों के बीच अंतर बेहद मामूली नज़र आता है.

चुनाव से पहले कहा जा रहा था कि गुस्साए गोरे अमरीकी लोग 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप को खुलकर वोट देंगे.

पर क्या ऐसा हुआ भी, जिसकी वजह से ट्रंप विजयी रहे? या उनकी जीत के पीछे कुछ अन्य पहलू हैं. इसकी पड़ताल करने के लिए एडिसन रिसर्च ने मतदाता सर्वे किया है.

12 करोड़ से ज्यादा रजिस्टर्ड मतदाताओं में से 25,000 मतदाताओं पर यह सर्वे किया गया.

इस सर्वे में महिलाओं का रुख हिलेरी क्लिंटन की तरफ झुका हुआ दिखा. वहीं ज्यादातर गोरे अमरीकी नागरिकों ने खुद को ट्रंप का समर्थक माना.

सर्वे में एक दिलचस्प बात निकलकर सामने आती है, वो यह कि ग्रामीण अमरीका में ट्रंप को ज्यादा समर्थन मिला. जबकि क्लिंटन के समर्थन में शहरी लोग ज़्यादा थे.

वहीं सालाना 50,000 डॉलर से ज्यादा आमदनी करने वाले लोग ट्रंप के सपोर्ट में गए और इससे कम आमदनी करने वालों का वोट हिलेरी को मिला.

45 साल और इससे ज़्यादा उम्र के अमरीकियों ने ट्रंप को खुलकर समर्थन दिया. जबकि नौजवानों और 44 साल तक के लोगों का वोट हिलेरी को मिला.

सर्वे के कुछ और निष्कर्ष:

- 7% ऐसे लोग, जो ख़ुद को रिपब्लिकन बताते थे, उन्होंने क्लिंटन को वोट दिया.

- 9% डेमोक्रेट समर्थकों ने अंत में क्लिंटन की जगह ट्रंप को ही वोट दिया.

- 2% ऐसे लोगों ने भी ट्रंप को वोट दिया, जिनके मन में ट्रंप की जीत को लेकर भय था.

बहरहाल, डोनल्ड ट्रंप को कुल मिलाकर 47.5% वोट मिले. हिलेरी को मिले 47.7% वोट. यह स्पष्ट है कि हिलेरी को ज़्यादा वोट मिले. फिर भी ट्रंप 279 इलेक्टोरल कॉलेज वोट जीते और हिलरी क्लिंटन को 228 के नंबर से ही संतोष करना पड़ा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)