ट्रंप को क्यों चुभोई जा रही हैं 'सुइयां'

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

अमरीका में डोनल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद सेफ़्टी पिन, नस्लवादी और धार्मिक हमलों और हिंसक घटनाओं के पीड़ितों के साथ एकजुटता का प्रतीक बन गई है.

ब्रिटेन में यूरोपीय संघ से अलग होने के फ़ैसले के बाद बढ़ी हिंसक घटनाओं के जवाब में एकजुटता के प्रतीक के रूप में सेफ़्टी पिन पहनना शुरू हुआ था.

लोगों ने इसे एक राजनीतिक संदेश देने के लिए इस्तेमाल किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राष्ट्रपति चुने गए डोनल्ड ट्रंप ने अपने विजय भाषण में कहा था कि वो सभी अमरीकियों के राष्ट्रपति होंगे.

लेकिन अपने चुनाव अभियान में उन्होंने मुसलमानों, लातिनी मूल के लोगों, महिलाओं और स्पेनिश भाषा बोलने वालों को निशाने पर रखा था.

उनकी जीत के ऐलान के कुछ घंटे बाद ही अमरीका के कई शहरों से अल्पसंख्यकों पर हमलों की ख़बरें आईं थीं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने के बाद अमरीका में कई जगहों पर ट्रंप के विरोध में रैलियां निकाली गईं

कैलिफ़ोर्निया में पुलिस ने हिजाब पहने एक मुस्लिम छात्रा पर हमले की जाँच की. सैन डिएगो यूनिवर्सिटी परिसर में छात्रा पर हमला करने वाले युवकों ने ट्रंप की जीत को लेकर टिप्पणियां भी की थीं.

संदिग्धों ने छात्रा की कार की चाबी छीन ली थी, बाद में कार भी ग़ायब मिली थी.

दक्षिण फिलाडेल्फिया में अश्लील संदेश दीवारों पर लिख दिए गए. दीवारों पर नाजी समर्थक ग्रैफ़िटी भी देखी गई है.

ट्रंप समर्थकों के ख़िलाफ़ हुई हिंसा की भी रिपोर्टें हैं. शिकागो में एक ट्रंप समर्थक के साथ मारपीट का मामला भी सामने आया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सेफ़्टी पिन को उम्मीद और एकजुटता के प्रतीक के रूप में सबसे पहले दूसरे विश्व युद्ध के दौरान नीदरलैंड्स पर हमले के समय इस्तेमाल किया गया था.

डच नागरिकों ने रानी के प्रति वफ़ादारी के प्रतीक के तौर पर उन्हें अपने कॉलर के नीचे लगाना शुरू कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)