हार के लिए हिलेरी ने किसे ठहराया ज़िम्मेदार?

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में हार के लिए डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने अमरीका की संघीय जांच एजेंसी एफ़बीआई के निदेशक को ज़िम्मेदार ठहराया है.

हिलेरी ने कहा कि चुनाव से ठीक पहले एफ़बीआई निदेशक जेम्स कूमी ने उनके ईमेल की जांच वाली बात कही जिससे उनके चुनाव प्रचार अभियान को ज़बरदस्त धक्का पहुंचा.

डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन पार्टी को सबसे ज़्यादा दान देने वालों से फ़ोन पर बात कर रही थीं. ये बातचीत मीडिया में लीक हो गई है.

हिलेरी क्लिंटन पर आरोप था कि उन्होंने अमरीका के विदेश मंत्री के तौर पर अपने आधिकारिक मेल, अपने निजी सर्वर के ज़रिए भेजे.

हालांकि बाद में एफ़बीआई ने कहा था कि हिलेरी क्लिंटन के ईमेल्स की नई खेप में किसी तरह की आपराधिक बात का कोई सबूत नहीं मिला है.

इस बीच निर्वाचित राष्ट्रपति रिपब्लिकन पार्टी के डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शनों का दौर जारी है.

इमेज कॉपीरइट AP

न्यूयॉर्क में क़रीब दो हज़ार लोगों ने ट्रंप टावर के सामने विरोध प्रदर्शन किया. ये लोग हाथ में तख्तियां पकड़े हुए थे जिन पर लिखा था 'नॉट माय प्रेसीडेंट'

ट्रंप के राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल करने के बाद से चार दिनों में अमरीका में 90 विरोध प्रदर्शन हो चुके हैं जिनमें उनकी नीतियों का विरोध हो रहा है.

प्रदर्शनकारी, प्रवासियों और अल्पसंख्यकों के साथ-साथ ट्रंप के महिलाओं के प्रति रवैये की भी आलोचना कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

जीत हासिल करने के बाद से ट्रंप चुनाव प्रचार के दौरान की गई बातों से कुछ अलग कह रहे हैं.

प्रचार के दौरान उन्होंने कहा था कि वो हिलेरी क्लिंटन के ईमेल मामले की जांच कराएंगे और अगर वो दोषी पाईं गईं तो उन्हें जेल भेजेंगे.

लेकिन अब जब उनसे पूछा गया कि क्या वो हिलेरी के ख़िलाफ़ ईमेल मामले की जांच के लिए स्वतंत्र जांचकर्ता नियुक्त करेंगे तो ट्रंप ने कहा कि हेल्थकेयर, नौकरियां, सुरक्षा और कर सुधार उनके लिए ज़्यादा बड़ी प्राथमिकताएं हैं.

डोनल्ड ट्रंप 20 जनवरी को शपथ लेंगे.