अमरीका में ट्रंप आए और भारत में लगी क़तार

इमेज कॉपीरइट AFP

डोनल्ड ट्रंप ने अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रैट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को हरा दिया है. इस तरह वह अमरीका के 45वें राष्ट्रपति होंगे.

जीत के बाद अपने संबोधन में ट्रंप ने कहा, "आप सभी का शुक्रिया. हिलेरी ने अभी फ़ोन करके हमें जीत पर बधाई दी है. और मैंने उन्हें शानदार मुक़ाबले के लिए मुबारक़बाद दी. उन्होंने ग़ज़ब का मुक़ाबला किया."

इमेज कॉपीरइट AFP

ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अमरीका में कई जगह पर उनके विरोध में प्रदर्शन हुए. ज़्यादातर प्रदर्शनकारी युवा थे और उनका कहना था कि ट्रंप के राष्ट्रपति बनने से जातीय और लिंग भेद बढ़ जाएगा.

यूरोपीय संघ के अध्यक्ष ज्यां क्लोड युंकर ने भी चेतावनी दी कि डोनल्ड ट्रंप की वजह से अमरीका और यूरोप के रिश्तों में खटास आ सकती है. उन्होंने कहा, "हमें डोनल्ड ट्रंप को बताना होगा कि यूरोप क्या है और कैसे काम करता है."

इमेज कॉपीरइट AFP

8 नवंबर को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट मध्यरात्रि से इस्तेमाल नहीं हो सकेंगे. इसका सीधा असर भारत में बाज़ारों पर पड़ा जो खाली रहे.

राजनीतिक पार्टियों ने इसका विरोध किया और कहा कि इससे आम लोग परेशान हो रहे हैं.

एटीएम और बैंकों से सामने नोट बदलवाने के लिए लोगों की भारी भीड़ जुटी और कई जगहों पर पैसा होने के बावजूद लोगों को ज़रूरी सामान ख़रीदने में दिक्कतें हुई.

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत के इस फ़ैसले के बाद नेपाल राष्ट्र बैंक के उस आदेश के बाद और भी बढ़ गया है, जिसमें कहा गया है कि वित्तीय संस्थानों, मनी एक्सचेंज काउंटर और अन्य एजेंसियों में इन नोटों को तत्काल रोक दिया जाए.

इस फ़ैसले से नेपाल के कारोबारी बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं.

नेपाल के साथ-साथ बांग्लादेश, म्यांमार, सिंगापुर, मलेशिया पर भी भारत में लागू की गई नोटबंदी का असर दिखा.

इमेज कॉपीरइट AFP

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि मंगलवार को उत्तरी इराक़ के शहर मूसल में कथित इस्लामिक स्टेट ने कथित तौर पर 40 नागरिकों की देशद्रोह के आरोप में हत्या कर दी.

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार कार्यालय ने सूत्रों के हवाले से बताया कि उन लोगों के शवों को बिजली के खंभों पर लटका दिया गया.

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी हिस्से में भीषण विस्फोट में कम से कम 52 लोगों की मौत हो गई है और 100 से ज़्यादा लोग ज़ख़्मी हुए.

शाह नूरानी दरग़ाह में मग़रिब की नमाज़ से कुछ पहले यह धमाका हुआ. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया है कि जिस वक़्त यह धमाका हुआ, उस वक़्त दरग़ाह में धमाल (सूफी उत्सव के दौरान होने वाला एक तरह का नृत्य) जारी था.

इमेज कॉपीरइट AP

अफ़गानिस्तान के बग़राम वायुसैनिक अड्डे में हुए बम विस्फोट में कम से कम 4 अमरीकी लोगों की मौत और 15 घायल हुए हैं.

बग़राम एयरबेस देश में अमरीका का सबसे बड़ा सैन्य हवाई ठिकाना माना जाता है. एक रिपोर्ट के मुताबिक़ इस आत्मघाती हमले की ज़िम्मेदारी तालिबान ने ली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)