पाकिस्तान के स्वात में फिर 'जीवित' हुए बुद्ध

इमेज कॉपीरइट Luca M. Olivieri
Image caption पाकिस्तान के स्वात में गौतम बुद्ध की प्रतिमा

मंगलावर गांव के पास पत्थरों पर उकेरी गौतम बुद्ध की प्रतिमा के बारे में दुनिया को सबसे पहले नब्बे साल पहले 1926 में पता चला था, सर ऑरेल स्टीन के ज़रिये.

साल 2007 में संदिग्ध तालिबान चरमपंथियों ने ईसा पूर्व की इन प्रतिमाओं की तोड़ फोड़ की.

पत्थरों पर उकेरी गई पद्मपानी की प्रतिमा को नष्ट कर दिया गया लेकिन अब इतालवी दूतावास की मदद के बाद इसे फिर से ठीक कर दिया गया है और अब इसे स्वात म्यूज़ियम में रखा जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Luca M. Olivieri
Image caption गौतम बुद्ध की प्रतिमा का जीर्णोद्धार कार्य.

बुद्ध की प्रतिमा के जीर्णोद्धार का काम तीन चरणों में पूरा किया गया. पहले चरण में जिन हिस्सों को नुकसान पहुंचा था, उसका संरक्षण किया गया.

पुरानी तस्वीरों और दस्तावेज़ों के सहारे थ्रीडी डेटा तैयार किया गया. जिसकी मदद से जो टुकड़े बचे थे उनसे सिर और कंधे फिर से तैयार हुए.

स्वात पर गहन अध्ययन वाली अन्ना फिलगेंज़ी की रिपोर्ट, जो 2015 में छपी थी, उससे भी इस काम में बहुत मदद मिली.

इटली के आर्कीअलॉजिकल मिशन ने यूनिवर्सिटी ऑफ पडुआ के साथ मिलकर इस इलाक़े की पुरातात्विक महत्व की जगहों का सर्वे किया. इसमें ख़ैबर-पख्तूनख्वा के पुरातत्व और म्यूज़ियम विभाग ने भी भाग लिया था.

इमेज कॉपीरइट Luca M. Olivieri
Image caption 1989 में ली गई तस्वीर

सर्वे में पहाड़ की चोटी पर एक विशाल बौद्ध मठ के अवेशष मिले.

बुद्ध की प्रतिमा तक ले जाती पुरातात्विक महत्व की एक सीढ़ी भी मिली. इस चोटी पर एक स्तूप के अवशेष भी पाए गए.

बोधिसत्व पद्मपानी की मूर्ति, ध्यान के लिए गुफ़ाएं, गुफ़ाओं की दीवारों पर भित्तीचित्र, पुरातात्विक महत्व के तीन बौद्ध शिलालेख और पास में एक विशाल स्तूप यहां मिले.

इमेज कॉपीरइट Luca M. Olivieri

तिब्बती यात्री ओर ज्ञान पा ने 1260 और 1283 के बीच स्वात का दौरा किया था.

उन्होंने लिखा है, "मंगलावर में एक मंदिर था. राजा इंद्रभूति ने इसके लिए धन मुहैया कराया था. वहां बुद्ध, तारा और लोकेश्वर की कई प्रस्तर प्रतिमाएं थीं."

इमेज कॉपीरइट Luca M. Olivieri

ओर ज्ञान पा हिमालय की यात्रा करने वाले उन बौद्ध तीर्थयात्रियों में से एक थे जिन्होंने स्वात का दौरा किया था.

5वीं सदी से ही बौद्ध तीर्थयात्री उदयन, राजा इंद्रभूति और मुनि पद्मसंभव की पवित्र भूमि का दौरा किया करते थे.

मुनि पद्मसंभव को तिब्बत और भूटान में गुरु रिम्पोचे के नाम से जाना जाता है.

ल्यूका एम ओलिविएरी स्वात में गौतम बुद्ध की प्रतिमा के जीर्णोद्धार से जुड़े रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे