पाकिस्तान में जारी किया गया 'कश्मीर एंथम'

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY IMAGES
Image caption सांकेतिक तस्वीर.

पाकिस्तानी मीडिया ने भारत प्रशासित कश्मीर में लोगों पर हो रहे कथित अत्याचार को लेकर जारी किए गए एक गीत पर ख़बर की है.

इस गीत को 'कश्मीर एंथम सॉन्ग' बताया जा रहा है, जिसे पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर की राजधानी मुज़फ्फराबाद में राष्ट्रपति सरदार मसूद ख़ान की मौजूदगी में 14 नवंबर को रिलीज़ किया गया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ इस गाने को कथित तौर पर कश्मीरी लोगों पर भारत सरकार द्वारा किए जा रहे ज़ुल्म के ख़िलाफ एक आवाज़ देने के लिए बनाया गया है. गाने के निर्माता नामी कलाकार उमर एहसान हैं.

उमर ने अपनी फ़ेसबुक वॉल पर इस गाने को कश्मीर के चरमपंथी नेता बुरहान वानी को समर्पित किया था.

इमेज कॉपीरइट Facebook
Image caption 'कश्मीर एंथम' पर बने वीडियो का स्क्रीनशॉट.

बुरहान को भारतीय फ़ौज ने 8 जुलाई को कथित एनकाउंटर में मार गिराया था, जिसके बाद भारत प्रशासित कश्मीर में करीब चार महीने तक अशांति रही.

बीबीसी से बात करते हुए उमर एहसान ने कहा, "हमें उम्मीद थी कि ज़िंदगी को तरसे कश्मीरी लोगों की आवाज़ बुलंद करने के लिए भारतीय कलाकार सामने आएंगे. लेकिन कुछ लोगों ने ऐसी कोशिश की, तो भारतीय जनता नाराज़ हो गई. हमने कश्मीरियों पर गाना बनाने का पहला हक़ भारत को ही दिया था. ताकि हुकूमतें यह नहीं समझें कि ज़ुल्म करने से नस्लें मिटाई जा सकती हैं."

उमर पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में बतौर समाजसेवी काम करते रहे हैं. उनका कहना है कि पाकिस्तान के बेस्ट संगीतकारों ने मिलकर इस गीत को तैयार किया है. यह मज़हब का गीत नहीं है, बल्कि इंसानों का गीत है.

पाकिस्तानी अख़बार डॉन में 15 नवंबर को छपी ख़बर के मुताबिक़, 'चूंकि बहुत से पाकिस्तानी कलाकार भारत के लिए भी काम करते हैं, ऐसे में ज़्यादातर कलाकार शुरूआत में इस गाने के लिए तैयार नहीं हुए.'

इमेज कॉपीरइट Twitter/@kashmirglobal
Image caption राष्ट्रपति सरदार मसूद ख़ान की मौजूदगी में 14 नवंबर को रिलीज़ किया गया गीत.

बाद में इस गाने को नामी संगीतकार अली अज़मत, उमर जसवाल और एलिसिया डायस की आवाज़ में रिकॉर्ड किया गया.

कई रिपोर्ट्स में लिखा गया है कि इस गाने के बाद संगीतकार जसवाल के फ़ेसबुक पेज से हज़ारों भारतीय कद्रदानों ने ख़ुद को अलग कर लिया है.

कई पाकिस्तानी चैनलों पर दिखाया गया कि राष्ट्रपति सरदार मसूद ख़ान ने इस गाने की तारीफ़ की है. साथ ही पाकिस्तान के लोगों से कश्मीर के संघर्ष में उनका साथ देने की अपील की है.

इस बीच सोशल मीडिया पर कश्मीर समर्थक इस गीत को जमकर शेयर कर रहे हैं.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)