नोटबंदी पर बिल गेट्स ने क्या कहा?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बिल गेट्स

500 और 1000 के पुराने नोट बंद होने पर सबकी अपनी और अलग राय है.

जिन लोगों को दिकक्त हो रही है, वो इस सरकार के इस कदम की आलोचना कर रहे हैं. जबकि कुछ लोग रुपये न होने की किल्लत के बावजूद सरकार की तारीफ कर रहे हैं.

भारत में 500 और 1000 के नोट बंद होने पर दुनिया के सबसे अमीर आदमी बिल गेट्स क्या सोचते हैं? बीबीसी संवाददाता जस्टिन रोलैट ने बिल से इस बारे में उनकी राय जानी.

बिल गेट्स ने भारत सरकार के नोटबंदी के फ़ैसले को कागज़ी मुद्रा से डिज़िटल लेन-देन की ओर एक कदम बताया.

बिल गेट्स ने कहा, ''अगर लोग ये देखें कि डिज़िटल दुनिया में लेन-देन करना ज़्यादा महंगा नहीं है, तो वो कागज़ की मुद्रा से उस तरफ़ बढ़ेंगे. मैं जानता हूं कि सरकार आधार कार्ड और बैंक अकाउंट खोलने जैसे कदम उठाकर उस ओर बढ़ रही है.''

गेट्स ने आगे कहा, ''मेरा अनुभव यही है कि गांवों में आप चाहे जितने बैंक खोल लें. जब तक इंटरनेट के माध्यम से लेन-देन करना शुरू नहीं करेंगे, उस पैसे को किसानों तक पहुंचाना मुश्किल ही रहेगा.''

इमेज कॉपीरइट AFP

फोर्ब्स 2016 की लिस्ट में बिल गेट्स दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में पहले नंबर पर थे.

बता दें कि आठ नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के पुराने नोट बंद करने का ऐलान किया था. इस ऐलान के बाद से लोगों को तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की लंबी कतार है. सरकार का कहना है कि ईमानदार लोग घबरा नहीं रहे हैं, जल्द सब ठीक हो जाएगा. जबकि विपक्ष सरकार की इस मुद्दे पर जमकर आलोचना कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे