फ़ेसबुक पर फ़र्ज़ी ख़बरों को ऐसे रोकेंगे ज़करबर्ग

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption फ़ेसबुक फाउंडर मार्क ज़करबर्ग

फ़ेसबुक फाउंडर मार्क ज़करबर्ग ने फ़र्जी ख़बरों से निपटने के लिए योजना तैयार कर ली है. ज़करबर्ग को उम्मीद है कि इससे वो फ़ेसबुक पर ग़लत ख़बरों और अफ़वाहों को रोकने में कामयाब होंगे.

अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में फ़ेसबुक पर फ़र्जी ख़बरों के कारण काफी विवाद पैदा हुआ था. कई यूज़र्स की शिकायत थी कि फ़ेसबुक पर इन 'ग़लत ख़बरों' की वजह से अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव प्रभावित हुआ.

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library

ज़करबर्ग ने ग़लत सूचनाओं के ख़िलाफ़ उठाए जाने वाले क़दम के बारे में विस्तृत जानकारी पोस्ट की थी. इसमें लोगों की पहचान और वेरिफिकेशन पर भी कड़ी नज़र रहेगी. अपनी पोस्ट में अरबपति ज़करबर्ग ने लिखा है, ''हम लोग इस समस्या पर लंबे समय से काम कर रहे हैं और हम इसकी जिम्मेदारी गंभीरता से लेते हैं.''

हलांकि उन्होंने कहा कि समस्या काफी जटिल है. ज़करबर्ग ने कहा कि इस मामले में तकनीकी रूप से भी दिक्क़त है. उन्होंने कहा कि फ़ेसबुक उन्हें निराश नहीं करेगा जो विचारों और सच्चाई को साझा करते हैं. उत्तरी अमरीका के टेक्नॉलज़ी रिपोर्टर डेव ली का मानना है कि फ़ेसबुक के लिए फ़र्जी ख़बरों को रोकना बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा कि हम लोग उन अज्ञात क्षेत्रों से बिल्कुल अपरिचित हैं. किसी प्राइवेट कंपनी के लिए तत्काल इन चीज़ों को रोकना आसान नहीं है.

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES
Image caption आलोचकों के मुताबिक़ फ़ेसबुक पर कई फ़र्ज़ी ख़बरों से डोनल्ड ट्रंप को मदद मिली

उन्होंने कहा कि तकनीकी कंपनियों को क्या करना चाहिए और पब्लिक को क्या जानने की अनुमति मिलनी चाहिए, दोनों के बीच काफी अंतर है.

डेनी ने कहा, ''इस मामले में ज़करबर्ग लंबे समय तक इन जटिलताओं से मुंह नहीं मोड़ सकते हैं. ज़करबर्ग का वैश्विक लक्ष्य उनकी बुद्धिमता पर निर्भर है. उनके लिए फ़र्जी ख़बर एक बड़ी परीक्षा है और उन्होंने इसे ठीक से हैंडल नहीं किया है.''

ज़करबर्ग ने कहा कि फ़ेसबुक में इसे लेकर सात प्रस्तावों पर काम चल रहा है. उन्होंने कहा कि ग़लत सूचनाओं को लेकर फ़ेसबुक बेहद गंभीर है. पिछले हफ्ते चुनावी नतीजे आने के बाद ज़करबर्ग को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. कई आलोचकों ने कहा कि फ़र्जी ख़बरों के कारण ट्रंप को और बढ़त मिली.

हालांकि ज़करबर्ग ने इन दावों को सिरे से खारिज कर दिया. हालांकि फ़र्जी न्यूज साइट्स का उभार हो रहा है क्योंकि इनका टारगेट वेब विज्ञापन हासिल करना होता है.

फ़र्जी खबरों को मज़ाकिया अंदाज़ के नाम पर पेश किया जाता है लेकिन इस पर लोग भरोसा भी कर बैठते हैं. इन खब़रों को काफी साझा किया जाता है. इन्हें लाइक्स भी काफी मिलते हैं.

सोमवार को गूगल ने घोषणा की थी कि वह फ़र्जी न्यूज़ साइट्स को विज्ञापन के ज़रिए कमाने से रोकेगा. इसके बाद फ़ेसबुक ने भी इसी तरह की घोषणा की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)