'लोलिता स्टाइल' क्यों बनी मजबूरी?

इमेज कॉपीरइट AFP

दुनिया भर में लोग पोर्न देखते हैं. दक्षिण कोरिया में भी देखते हैं.

लेकिन यहां के मर्द औरतों की छिपकर तस्वीर लेने में सबसे आगे निकल गए हैं. क्यों?

बीबीसी के स्टीफन ईवान्स ने वहां इस बात की खोजबीन की.

गिटार सीखने के लिए सर्च बॉक्स में म्यूजिक से जुड़ा एक शब्द डाला गया. साइट ने इसका मतलब तो नहीं बताया लेकिन एक पॉप-अप विंडो खुला. ये कोरिया की प्रमुख पोर्न वेबसाइट थी.

कोरिया में पोर्न साइट गैरकानूनी तो है, लेकिन उपलब्ध है और खूब देखा जा रहा है.

सरकार लगातार इन वेबसाइटों को बंद करने का दावा कर रही है. लेकिन हालात कुछ और बताते हैं. मानो सरकार और इनके बीच चूहे-बिल्ली का खेल चल रहा हो.

अप्रैल में सियोल पुलिस ने हॉलैंड स्थित एक सर्वर को पकड़ा और फिर उसे बंद किया. यह कोरियाई यूजर के लिए पोर्न परोसता था.

यह सर्वर अमरीका से वहां लाया गया था. अमरीका में भी इसे बंद कर दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले दिनों सियोल में महिलाओं की छिपे हुए कैमरों से वीडियो तैयार करने और उसे ऑनलाइन शेयर करने की घटनाएं बढ़ गईं.

पुलिस की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक़ सियोल में 2012 में 990 छिपे हुए कैमरे पकड़े गए तो 2015 में 3638.

लेडी टॉयलेट हो, चेंजिंग रुम हो या कोई और सुविधाजनक जगह छिपे हुए कैमरे लगाकर उनके वीडियो बनाए जा रहे हैं.

सरकार को तब एक खास दस्ता तैयार करना पड़ा जो छिपे हुए कैमरों को ढूंढे.

बुसान में इन गरमियों में पुलिस को कहा गया कि वह उन पुरुषों पर नजर रखे जिनके हाथ में कैमरा है और जिनकी हरकतें संदेहास्पद हैं.

इसलिए अधिकारी महिलाओं के कपड़े बदलने वाले रूम में छिपे हुए कैमरे को पकड़ने के लिए मेटल डिटेक्टर का प्रयोग कर रहे हैं.

कैमरा बनाने वाले भी सरकार की मदद कर रहे हैं. वे फोन कैमरा में आवाज वाले शटर-क्लिक लगा रहे हैं ताकि यदि छिपकर कोई तस्वीर ले तो महिला को पता चल जाए.

Image caption एस्केलेटर पर चेतावनी, तस्वीर ना खींचें

ये समस्या गंभीर होती जा रही है. हालात देखते हुए सरकार ने पोस्टर प्रिंट करवाए. पोस्टर में एक महिला एस्केलेटर पर है. उसके पीछे खड़ा एक पुरुष नीचे से तस्वीर खींच रहा है. पोस्टर पर लिखा है, प्लीज अपने स्कर्ट को ठीक करें.

हालांकि इस पर महिलाओं ने आपत्ति की. कहा कि पोस्टर देखकर ऐसा लग रहा है मानों यदि उन्होंने छोटी स्कर्ट नहीं पहनी होती तो ऐसा नहीं होता.

फिर लाइन को बदल दिया गया. लिखा गया, कोई तस्वीर ना खींचें.

हाल के आंकड़ें बताते हैं कि काम करने वाले 20 या 20 से ऊपर की युवतियों की संख्या इसी उम्र के काम करने वाले पुरुषों के मुकाबले धीरे धीरे बढ़ रही है.

लेकिन जिस तरह से महिलाओं में सार्वजनिक क्षेत्रों में समानता की चाह बढ़ रही है, दूसरे देशों की ही तरह यहां भी पुरुषों का पारंपरिक नजरिया नहीं बदल रहा.

और कोरियाई बाजार के लिए भी सेक्स सबसे बिकाऊ है. उदाहरण के लिए कोरियाई गर्ल बैंड के कुछ वैसे सदस्य जो किशोरावस्था में ही हैं, वे कपड़े और और हावभाव से मंच और दूसरी जगहों पर कामुकता ही परोस रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट JUHYOSANG

इस चलन को दक्षिण कोरियाई मीडिया ने 'लोलिता स्टाइल' का नाम दिया है.

जो इसकी शिकायत करते हैं उन पर पाखंडी होने का आरोप मढ़ दिया जाता है.

एक टेक शो में पुरुष कैमरामैन छोटे और तंग स्कर्ट और ब्लाउज पहनीं इन युवतियों की टांगों की तस्वीरें खींच रहा है. कंपनी अपने गैजेट की बिक्री बढ़ाने के लिए ऐसा करने की जरूरत बताती रही है.

यहां ये लड़कियां तस्वीरें खींचे जाने पर भी नाराजगी नहीं दिखातीं. उन्हें डर है कि कहीं उनका बॉस नाराज हो गया तो उनकी नौकरी चली जाएगी.

लोग तरक्की कर रहे हैं. लेकिन फिर भी पुरुष चाहते हैं कि महिलाएं सजे-संवरे और उनकी इच्छा पूरी करने के लिए हमेशा प्रस्तुत रहें.

यहां परिवार छोटे-छोटे फ्लैटों में रहते हैं. सब एक ही कमरे में बच्चों के साथ सोते हैं. उनकी सेक्स जरूरतें पूरी नहीं होती.

इसीलिए यहां लव होटल भी हैं. इन होटलों में प्रेमी जोड़े ही नहीं शादीशुदा लोग भी मिलते हैं.

इसी तरह जब आप कोरिया के हवाईजहाज पर चढ़ेंगे तो आपको आश्चर्य होगा कि वहां उड़ान से पहले चेतावनी दी जाती है कि केबिन परिचारिकाओं से छेड़छाड़ ना करें, वरना दंड के भागीदार होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे