नेपाल में नहीं चल रहे हैं नए भारतीय नोट

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
‘पैसा सिर्फ़ देखने के लिए रह गया है’

भारतीय रिज़र्व बैंक ने जो नए नोट जारी किए हैं, नेपाल के लोग उनका इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं.

काठमांडू में बीबीसी नेपाली सेवा के संवाददाता गनी अंसारी ने इसकी वजह बताते हुए कहा कि नेपाल राष्ट्रीय बैंक ने भारतीय नोटों के बारे में कोई सर्कुलर अब तक जारी नहीं किया है.

जब तक नेपाल का केंद्रीय बैंक भारतीय नोटों के इस्तेमाल की अनुमति नहीं देता, वह नेपाल में वैध करेंसी नहीं माना जा सकता. लिहाजा, नेपाल में नए भारतीय नोटों का इस्तेमाल फ़िलहाल नहीं किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

आज रात से नहीं बदलेंगे पुराने नोट.

इसके अलावा भारतीय रिजर्व बैंक ने अब तक नेपाल राष्ट्रीय बैंक से नहीं पूछा है कि उस देश के नागरिक कितने मूल्य के भारतीय नोट रख सकेंगे या इस्तेमाल कर सकेंगे.

इसके बाद भारतीय केंद्रीय बैंक एक निश्चित सीमा तक नोटों के इस्तेमाल की इजाज़त देगा और नेपाली केंद्रीय बैंक उस बारे में सर्कुलर जारी करेगा. अब तक ऐसा नहीं हुआ है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption नए नोट भी अभी नहीं चल रहे नेपाल में

कैशलेस होने के फ़ायदे-नुकसान

नोट जितना हो जाएं बैन, जुगाड़ ज़िंदाबाद

गनी अंसारी ने यह भी कहा कि भारत के 500 रुपए और 1,000 रुपए के पुराने नोटों के इस्तेमाल को लेकर नेपाल, खास कर सीमा से सटे इलाक़ों, में लोगों में काफ़ी गुस्सा है.

नेपाल में इन भारतीय करेंसी नोटों के बदलने का कोई इंतज़ाम नहीं है. लिहाजा, ये पैसे बेकार पड़े हुए हैं. सीमा से सटे इलाकों का पूरा कारोबार ही भारतीय करेंसी में होता है, लिहाजा कारोबार पूरी तरह ठप है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
एटीएम मशीन में क्या हो रही है दिक्कतें

बाशिंदों को रोज़मर्रा की दिक्क़तें होती हैं. सीमाई इलाक़ों में इलाज के लिए भारत आना आम बात है, पर फ़िलहाल ऐसा नहीं हो पा रहा है, क्योंकि भारतीय नोट यहां कोई नहीं लेता है.

नेपाल से बड़ी तादाद में लोग भारत आकर नौकरी करते हैं. वापस जाने वाले ऐसे तमाम लोगों के पास पुराने नोट ही हैं. वे वहां बेकार हैं.

(बीबीसी संवाददाता संदीप सोनी से हुई बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे