'भारत नहीं तोड़ सकता सिंधु नदी समझौता'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'पंजाब के किसानों को ख़ुश करने के लिए मोदी का बयान'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंधु नदी का पानी पाकिस्तान के बजाए पंजाब को देने की घोषणा की है.

56 साल पहले भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु जल समझौता हुआ था.

इसे दो देशों के बीच जल विवाद पर एक सफल अंतरराष्ट्रीय उदाहरण बताया जाता है.

'सिंधु का पानी पाक नहीं पंजाब को मिलेगा'

सिंधु का पानी पाकिस्तान को नहीं मिलेगा: मोदी

भारत-पाक के बीच सिंधु जल समझौते की कहानी

दोनों देशों के बीच दो बड़ी जंग, एक कारगिल युद्ध और हज़ारों दिक्क़तों के बावजूद ये संधि कायम है. विरोध के स्वर उठते रहे लेकिन संधि पर असर नहीं पड़ा.

नरेंद्र मोदी के बयान के बाद मीडिया में तो सुर्खियां बन गईं लेकिन इस पर अभी तक विदेश विभाग की ओर से कोई बयान नहीं आया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ देश से बाहर हैं. वो तुर्केमिनिस्तान के दौरे पर गए हुए हैं.

आम तौर पर जब किसी दूसरे देश के प्रमुख का बयान आता है तो विदेश विभाग यह कहता है कि मीडिया रिपोर्ट के आधार पर हम कोई टिप्पणी नहीं करेंगे.

इससे पहले जब सिंधु जल समझौते की पुर्नसमीक्षा की बात हुई थी तब नरेंद्र मोदी ने क़ानूनी सलाहकारों से विमर्श करने के बाद कहा था कि सिंधु जल समझौता कायम रहेगा.

इस समझौते की शर्त है कि कोई एक पक्ष इसमें बदलाव नहीं कर सकता है. यह तब ही ख़त्म होगा जब दोनों पक्ष इसे ख़त्म करने के लिए सहमत हो.

अगर इसे कोई एक पक्ष ख़त्म करता है तो उस पर समझौते के मुताबिक़ उचित कार्रवाई होगी.

इमेज कॉपीरइट Bhaskar solanki

पाकिस्तान इस बात को समझता है कि भारत इस समझौते में अपनी ओर से कोई तब्दीली नहीं कर सकता है इसलिए वो इत्मिनान से है.

पंजाब में चूंकि चुनाव होने वाले हैं और आम तौर पर चुनाव में इस तरह के बयान और दावे किए जाते हैं ताकि स्थानीय लोगों को हौसला मिले.

इसलिए पाकिस्तानी मीडिया ने भी यह कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों का दिल जीतने के लिए यह बयान दिया है. नहीं तो उन्हें और उनकी क़ानूनी सलाहकारों की टीम को पता है कि ऐसा मुमकिन नहीं है.

जहां तक सिंधु नदी के पानी की बात है तो यह पाकिस्तान में सिंचाई के लिहाज से बहुत अहमियत रखता है.

(बीबीसी संवाददाता संदीप सोनी से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)