एलेप्पो के दो इलाक़ों पर सीरियाई सेना का कब्ज़ा

इमेज कॉपीरइट Reuters

सीरियाई सेना ने पूर्वी एलेप्पो के दूसरे बड़े इलाक़े पर कब्ज़ा करने का दावा किया है, जो हाल तक विद्रोहियों के नियंत्रण में था. इस बीच सैकड़ों नागरिक भाग कर सरकारी नियंत्रण वाले इलाक़े में पहुँच रहे हैं.

एक बयान में कहा गया है कि सेना और उसके सहयोगियों ने जबाल बादरो ज़िले का पूरा नियंत्रण अपने हाथों मे ले लिया है.

इससे कुछ घंटे पहले विद्रोहियों से जुड़े सूत्रों ने बताया कि पड़ोस में स्थित हनानो ज़िला उनके हाथ से निकल चुका है और अब सरकार के कब्ज़े में है.

एलेप्पो पर सीरियाई सेना के हमले 13वें दिन भी जारी हैं और इन इलाकों में क़रीब 2.75 लाख लोग फंसे हैं.

ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्ज़रवेटरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक इस लड़ाई में अब तक 219 नागरिक मर चुके हैं. इनमें 27 बच्चे शामिल हैं.

सीरिया में पांच साल से जारी जंग में अमरीका और पश्चिमी देश सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद के सत्ता से हटने की मांग करते रहे हैं और विद्रोहियों के साथ खड़े नज़र आए हैं.

उधर रूस पूरी तरह से सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद का समर्थन करता आया है.

सैकड़ों नागरिकों का पलायन

सीरियाई सुरक्षाबलों के पूर्वी एलप्पो में विद्रोहियों के ख़िलाफ़ बढ़त बनाने के बीच सैकड़ों नागरिकों के भागकर सरकारी नियंत्रण वाले इलाकों में पहुंचे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

कुछ नागरिक विद्रोहियों के कब्ज़े वाले दूसरे इलाकों में भाग निकले, जबकि अन्य सरकारी कब्ज़े वाले क्षेत्र में रुक गए.

हनानो, एलेप्पो का पहला ज़िला है, जिसे बाग़ियों ने साल 2012 में अपने कब्ज़े में लिया था.

सरकारी सुरक्षाबल अब पूर्व के दूसरे इलाकों पर ध्यान लगा रहे हैं, ताकि विद्रोहियों के नियंत्रण वाला भाग दो हिस्सों में बंट जाए.

इस बीच विद्रोहियों ने एलेप्पो के पश्चिमी हिस्सों पर रॉकेट से हमले बढ़ा दिए हैं. वहां सरकारी सुरक्षाबलों का कब्ज़ा है.

हनानो में सीरियाई सेना की कामयाबी ने विद्रोहियों को मुश्किल में डाला है.

एलप्पो पर नियंत्रण हासिल करना, सीरिया में पिछले पांच साल से जारी जंग में, सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असाद की सबसे बड़ी जीत होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे