ट्रंप का ईरान से संधि ख़त्म करना विनाशकारी होगा: सीआईए प्रमुख

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption जॉन ब्रेनन

अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के प्रमुख ने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को ख़बरदार किया है कि ईरान के साथ परमाणु समझौते को ख़त्म करना 'विनाशकारी' और 'मूर्खता की इन्तहा' हो सकता है.

बीबीसी से ख़ास बातचीत में सीआईए के निदेशक जॉन ब्रेनन ने सीरिया में हालात को बिगाड़ने के लिए रूस को ज़िम्मेदार ठहराते हुए ट्रंप को सलाह दी है कि वो रूसी वादों से होशियार रहें.

ट्रंप ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान ईरान के साथ परमाणु समझौते को ख़त्म कर देने और रूस के साथ क़रीबी संबंध बनाने के संकेत दिए थे.

चार साल तक इस पद पर बने रहने के बाद जॉन ब्रेनन जनवरी 2017 में रिटायर हो रहे हैं.

जॉन ब्रेनन ने बीबीसी से बातचीत में कहा, ''मेरे विचार से ईरान के साथ परमाणु समझौता ख़त्म करना विनाशकारी होगा.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption डोनल्ड ट्रंप

उनका कहना था कि ऐसी मिसाल नहीं मिलती कि पिछली सरकार ने जो समझौते किए हों उसको दूसरी सरकार आने के बाद रद्द कर दे.

उनका कहना था कि ऐसा करने से ईरान में कट्टरपंथियों की स्थिति मज़बूत होने का ख़तरा है और दूसरे देश भी ईरान को देखकर परमाणु प्रोग्राम शुरु कर सकते हैं.

सीरिया के हालात के बारे में ब्रेनन ने कहा कि बशर अल-असद की सरकार और रूस दोनों सीरियाई नागरिकों के 'निर्दयतापूर्ण जनसंहार' के ज़िम्मेदार हैं.

बराक ओबामा की सरकार ने बशर अल-असद के ख़िलाफ़ लड़ रहे विद्रोहियों को समर्थन देने की नीति अपनाई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सीरिया

ब्रेनन का कहना था कि उन्हें पूरा यक़ीन है कि अमरीका को यही नीति जारी रखते हुए सीरिया, ईरान, हिज़्बुल्लाह और रूस के ख़िलाफ़ विद्रोहियों की मदद करनी चाहिए.

उनका कहना था कि भविष्य में सीरिया के मामले में रूस की भूमिका बहुत अहम रहेगी. ट्रंप की नई टीम की तरफ़ से इस तरह के संकेत दिए जा रहे हैं कि अमरीका कई मुद्दों पर रूस के साथ मिलकर काम करने की कोशिश करेगा.

ब्रेनन ने कहा कि अमरीका को रूस के वादे के बारे में सचेत रहना चाहिए क्योंकि पहले भी रूस अपने वादे निभाने में नाकाम रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे