ब्रितानी संसद में जब स्पीकर सहित सभी रो पड़े

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
51 साल की ब्रितानी सांसद ने 14 साल की उम्र में अपने साथ हुए रेप का अनुभव संसद में साझा किया

ब्रिटेन की एक महिला सांसद ने अपनी बातों से ब्रितानी संसद के निचले सदन हाउस ऑफ़ कॉमन्स में मौजूद स्पीकर समेत सभी सांसदों को रूला दिया.

स्कॉटिश सांसद मिशेल थॉमसन ने संसद में कहा कि जब वो केवल 14 साल की थीं तो उनके अपने ही एक क़रीबी जानने वाले ने उनका रेप किया था.

महिलाओं के ख़िलाफ़ हिंसा को समाप्त करने के लिए संयुक्त राष्ट्र की तरफ़ से घोषित अंतरराष्ट्रीय दिवस के मौक़े पर संसद में बहस के दौरान मिशेल ने अपनी निजी ज़िंदगी से जुड़ी ये बातें सार्वजनिक कीं.

उनके भाषण के बाद स्कॉटिश नेशनल पार्टी के सांसदों ने उन्हें सांत्वना दिया.

ये भी पढ़ें

मिसराता में सामूहिक बलात्कार

बलात्कार पीड़िता से पुलिस ने पूछे भद्दे सवाल

बलात्कार, ताले और राजनीति

लेकिन उनके भाषण का असर ये हुआ कि स्पीकर जॉन बर्को भी भावुक हो गए और सदन में मौजूद लगभग सारे सांसद रो पड़े.

लेबर पार्टी की महिला सांसद ट्रेसी ब्रेबिन ने भी संसद में अपनी कहानी सुनाते हुए कहा कि जब वो 20 साल की थीं तो एक व्यक्ति ने उनका रेप करने की कोशिश की थी.

मिशेल ने अपनी कहनी सुनाते हुए कहा, ''युवाओं के एक कार्यक्रम के ख़त्म होने के बाद उस व्यक्ति ने उन्हें घर तक छोड़ने को कहा जो कि बहुत ही साधारण सी बात थी. शाम का वक़्त था लेकिन अंधेरा नहीं हुआ था. मेरा ख़्याल है मैं जीन्स और टीशर्ट पहने हुई थीं.''

Image caption ब्रितानी संसद

मिशेल ने कहा कि उन्हें रास्ते की जानकारी थी लेकिन वो व्यक्ति दूसरे रास्ते से ले जाने लगा और कहने लगा कि वो उन्हें कुछ दिखाना चाहता है.

उनके अनुसार उन्हें थोड़ा डर ज़रूर लगा लेकिन उन्होंने उस बात को नज़रअंदाज़ कर दिया क्योंकि वो व्यक्ति उनके जानने वाला था.

उन्होंने आगे कहा, ''सच कहा जाए तो उस वक़्त मुझे पता भी नहीं था कि रेप क्या होता है.''

अपनी पीड़ा को शेयर करते हुए उन्होंने कहा, ''मुझे याद है सबसे पहले तो मुझे सबसे ज़्यादा आश्चर्य हुआ, फिर डर लगने लगा और दहशत होने लगी क्योंकि मुझे अहसास हो गया था कि मैं वहां से भाग नहीं सकती क्योंकि वो व्यक्ति मुझे से ज़्यादा ताक़तवर था और उसने उससे पहले कभी ऐसी कोई इच्छा भी ज़ाहिर नहीं की थी कि वो मुझसे शारिरिक संबंध बनाना चाहता है. आज भी जब मैं पीछे मुड़कर देखती हूं तो मुझे बहुत अजीब लगता है.''

मिशेल न कहा कि इस हादसे के बाद वो रोते हुए घर पहुंची और इस सदमे से कांप रहीं थीं.

उन्होंने न तो इसकी जानकारी अपने माता-पिता को दी और न ही किसी दोस्त या पुलिस को. उनके अनुसार उन्होंन इसको अपने अंदर ही दबा दिया और अंदर ही अंदर इस शर्म से घुटती रहीं कि उन्होंने ये सबकुछ कैसे होने दिया.

मिशेल ने बाद में अपने स्कूल के एक पुरूष दोस्त से ये बातें शेयर कीं लेकिन कई वर्षों तक वो ''आत्मग्लानि, ग़ुस्सा, डर, उदासी और कड़वाहट के भाव से गुज़रती रहीं. ''

उन्होंने कहा कि जब 12 साल बाद उनकी शादी हो रही थी ती उन्होंने अपना 'कर्तव्य' समझते हुए अपने पति को ये बात बता दी.

Image caption स्पीकर जॉन बर्को

मिशले ने कहा कि रेप ने उनके ''आत्मसम्मान, आत्मविश्वास, और ख़ुद की अहमियत को बहुत कमज़ोर कर दिया था लेकिन वो इस बात से बहुत ख़ुश हैं कि वो एक सुखी वैवाहिक जीवन गुज़ार रही हैं.''

उन्होंने कहा कि अपनी आपबीती दुनिया के साथ शेयर करने से पहले उन्होंने इस बारे में बहुत सोचा क्योंकि उनके अनुसार ''लोग अभी भी इस तरह की बात को सार्वजनिक नहीं करना चाहते हैं और ख़ासकर उनकी पीढ़ी के लोगों के लिए तो इस तरह की बात को सबके सामने रखना निश्चित तौर पर बहुत ही शर्मनाक है.''

मिशेल ने कहा कि वो आख़िर-आख़िर तक अपनी मां को ये सब बताने की हिम्मत नहीं जुटा पाईं जिनका कैंसर की वजह से देहांत हो गया. उन्हें लगता है कि ऐसा कर उन्होंने शायद कायरता का परिचय दिया है लेकिन फिर वो कहती हैं कि अपनी मां से प्यार के कारण उन्होंने ऐसा किया क्योंकि वो उन्हें इन सब चीज़ों से बचाना चाहती थीं.

मिशेल के अनुसार केवल सेक्स की वजह से रेप नहीं किया जाता बल्कि इसका संबंध अपनी ताक़त के प्रदर्शन और दूसरों पर नियंत्रण से है.

अपनी बात को ख़त्म करते हुए मिशेल ने आख़िर में कहा, ''एक बात जो अब मैं महसूस करती हूं वो ये कि डरपोक मैं नहीं बल्कि वो था. मैं पीड़ित नहीं हूं, मैं तो इसका मुक़ाबला करने वाली हूं.''

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ट्रेसी ब्रेबिन

स्पीकर बर्को ने भावुक होकर कहा, ''मिशेल थॉमसन की बातों ने हम सभी पर एक अमिट छाप छोड़ी है.''

एक और महिला सांसद ट्रेसी ब्रेबिन ने अपनी कहानी बताते हुए कहा जब वो 20 साल की थीं तो एक अजनबी ने उनका रेप करने की कोशिश की थी और वो एक चाक़ू लेकर सोती थीं.

ब्रेबिन ने कहा कि वो ख़ुशनसीब हैं कि वो बच गईं और रेप की कोशिश करने वाले को सज़ा मिली.

वो कहती हैं, मैं यूनिवर्सिटी के दूसरे साल में थी. उस व्यक्ति ने मुझे उसके कार के पास से गुज़रते हुए देखा था और आगे जाकर मेरा इंतज़ार कर रहा था. जैसे ही मैं उसके सामने आई आपकी मां इन हालात से निपटने के लिए जो भी बात बताती हैं कि आप उसे वहां पर मारे जहां उसे बहुत तकलीफ़ हो और फिर तेज़ी से दौड़कर भाग जाएं, वो सबकुछ मैं भूल गईं..सच्चाई ये है कि मैं डर से कांप रही थी और जम गई थी.

वो आगे कहती हैं, ''उसने मुझे धक्का देकर ज़मीन पर गिरा दिया और जब उसने रेप करने की कोशिश की तो मैंने विरोध किया लेकिन वो मुझे मारने लगा. उसी रोड पर आगे एक भारतीय पड़ोसी थे जिन्होंने मेरे साथ बुरा होने से बचा लिया.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे