क़तर में नहीं चलेगी 'बंधुआ मज़दूरी'

इमेज कॉपीरइट AFP

क़तर अपने यहां 'बंधुआ मज़दूरी' की उस प्रथा को बंद करने जा रहा है जिसके तहत विदेश से आए किसी कामगार को अपनी नौकरी बदलने के लिए 'मालिक' से मंज़ूरी लेनी पड़ती है.

वर्तमान में वहाँ जो प्रणाली प्रचलित है उसके तहत कामगार अपने उस नियोक्ता की मर्जी के बगैर नौकरी नहीं बदल सकता जिसने क़तर में उसकी नौकरी प्रायोजित की हो.

क़तर में इसे 'कफ़ाला सिस्टम' कहा जाता है. नया कानून मंगलवार से लागू हो जाएगा.

पढ़ें- क़तर में मज़दूरों का शोषण

पढ़ें- अब क़तर में नौकरी आसान नहीं?

इमेज कॉपीरइट AFP

क़तर ने कहा है कि नया क़ानून कॉन्ट्रैक्ट आधारित होगा. यह पहले से ज़्यादा सुगम और सुरक्षित होगा.

'कफ़ाला सिस्टम' को मानवाधिकार कार्यकर्ता मौजूदा दौर की गुलामी वाली व्यवस्था भी कहते हैं.

2022 के फुटबॉल वर्ल्ड कप की तैयारियों के मद्देनजर क़तर में लाखों मज़दूरों को काम मिला है.

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि कामकाज की खराब परिस्थितियों के कारण इनमें से कई मज़दूरों को जान गंवानी पड़ी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे