उबर स्टाफ़ पर यात्रियों की जासूसी का आरोप

इमेज कॉपीरइट Press Association

अमरीका में उबर के एक पूर्व कर्मचारी ने कंपनी पर आरोप लगाया है कि उसका स्टाफ़ कैब में सफ़र कर रहे यात्रियों की जासूसी करता है.

पूर्व कर्मचारी ने कोर्ट को दिए एक हलफ़नामे में कंपनी पर ये आरोप लगाए.

हालांकि उबर ने इन आरोपों का खंडन किया है और दावा किया कि, "हमारे सैकड़ों सेक्योरिटी और प्राइवेसी एक्सपर्ट चौबीसों घंटे ग्राहकों (यात्रियों) के डेटा की हिफ़ाज़त करते हैं."

पढ़ें: उबर ने ओला को अदालत में घसीटा

ये भी पढ़ें: ओला, उबर ज्यादा पैसे नहीं चार्ज कर सकेंगे

उबर ने इसी साल जनवरी में उस पर चल रहे इसी तरह के एक केस का निपटारा किया जिसके लिए उसे 20 हज़ार डॉलर यानी 13,700 पाउंड देने पड़े.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY

उस मामले में कंपनी पर आरोप था कि इसके जियो लोकेशन ट्रैकिंग टूल 'गॉड व्यू' से उसका स्टाफ़ यात्रियों की जासूसी करता है.

हलांकि कंपनी का कहना है कि अब 'गॉड व्यू' टूल को ख़त्म कर दिया गया है और कंपनी 'हैवन व्यू' नाम के दूसरे ज़्यादा सुरक्षित टूल का इस्तेमाल करती है.

पढ़ें: चीन में उबर को हर साल एक अरब डॉलर का घाटा

उबर के एक पूर्व कर्मचारी वार्ड स्पान्जेन्बर्ग ने अपने हलफ़नामे में लिखा, "कंपनी के कस्टमर डेटा की सुरक्षा में लापरवाही की वजह से कर्मचारी बड़े-बड़े राजनेताओं, सेलेब्रिटीज़ यहां तक कि अपनी गर्लफ्रेंड, ब्वॉयफ्रेंड या पूर्व जीवनसाथी तक की जासूसी कर पा रहे हैं."

वार्ड स्पान्जेन्बर्ग को इसी साल उबर ने निकाल दिया था. उन्होंने कंपनी पर केस दायर किया है. स्पान्जेन्बर्ग का आरोप है कि कंपनी में हो रही अनियमितताओं को सामने लाने की वजह से उन्हें निकाला गया.

आप कैसे ग्राहक हैं, उबर सब जानता है

उनके अलावा कंपनी के पांच पूर्व कर्मचारियों ने भी समाचार वेबसाइट 'रिवील' को बताया कि कंपनी ने यात्रियों के डेटा की सुरक्षा के लिए पर्याप्त क़दम नहीं उठाए हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

जवाब में उबर ने एक बयान जारी कर कहा, "हम अपने ग्राहकों (यात्रियों) के डेटा की सुरक्षा के लिए लगातार अपना फंड बढ़ा रहे हैं. हम कई चरणों में सुरक्षा जांचते रहते हैं और हमारी इस कोशिश की लगातार चर्चा भी की जाती है."

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, "हमारी नीति और तकनीक नियंत्रण का ज़ोर इस बात पर है कि कैसे हम कैब सवारों के डेटा सुरक्षित रखें. हम अपने कर्मचारियों को ग्राहकों के डेटा की सिर्फ़ उतनी ही एक्सिस देते हैं जितनी उन्हें अपनी ड्यूटी निभाने के लिए ज़रूरत है."

'बज़ फ़ीड' ने भी कहा था उबर ने उसकी एक रिपोर्टर की राइड को बिना अनुमति के ट्रैक किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे