ट्रंप की 'टीम' में पेप्सिको की भारतीय मूल की प्रमुख इंदिरा नूई

इंदिरा नूई इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पेप्सिको की सीईओ इंदिरा नूई

अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने भारतीय मूल की पेप्सिको चेयरपर्सन और सीईओ इंदिरा नूई को अपने विशेषज्ञों की टीम में शामिल किया है.

इस टीम में नूई के साथ टेस्ला और उबर के सीईओ भी हैं. ट्रंप ने बुधवार को इन तीनों हस्तियों को रणनीतिक और पॉलिसी फोरम में शामिल किया है.

ट्रंप ने अपने प्रेस रिलीज में कहा कि अमरीका के पास दुनिया की बेहतरीन कंपनियां हैं. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इन कंपनियों के साथ मिलकर काम करना चाहती है ताकि निजी क्षेत्रों की स्थिति को सुधारा जा सके. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के इस क़दम से बिज़नेस का माहौल सुधारने और देश में नौकरियों को पैदा करने में मदद मिलेगी.

पढ़ें: इंदिरा नुई और अरूंधति रॉय फ़ोर्ब्स सूची में

इससे पहले भारतीय मूल की निकी हेली को ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र में अमरीका की राजदूत बनाने की घोषणा की थी. निकी भी ट्रंप की आलोचक रही हैं. निकी साउथ कैरोलाइना की गवर्नर हैं. उन्होंने ट्रंप के मुकाबले मार्को रुबियो का समर्थन किया था. मार्को रुबियो जब रेस से बाहर हुए तो निकी ने टेड क्रूज का समर्थन किया और फिर आख़िर में उन्होंने ट्रंप का समर्थन किया. ट्रंप के मुस्लमानों के बारे में दिए गए बयान पर निकी ने खुलकर असहमति जताई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमरीका का नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप

नूने ट्रंप पर तीखा हमला बोला था

सबसे ज़्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि ट्रंप के बारे में इंदिरा नूई ने पहले कहा था- 'अमरीका में ज़्यादातर काले लोग ट्रंप के आने के बाद अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.'

नूई, हिलरी क्लिंटन की समर्थक रही हैं. पिछले हफ्ते न्यूयॉर्क टाइम्स की डीलबुक कॉन्फ्रेंस में नूई से पत्रकार एन्ड्र्यू सोर्किन ने अमरीकी चुनावी नतीजों पर एक सवाल पूछा था.

इस सवाल का जवाब देते हुए नूई ने कहा था, ''क्या आपके पास टिशू है?'' इसके बाद हसंते हुए नूई ने कहा था, ''सबसे पहले मैं उन्हें राष्ट्रपति चुने जाने पर बधाई देती हूं. जो भी ट्रंप का समर्थन नहीं कर रहे थे उनके लिए यह अफसोस की घड़ी है पर अब हम सभी को साथ आना चाहिए.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption डोनल्ड ट्रंप

अमरीका में चुनावी नतीजे आने के बाद नूई ने कहा था कि वह अपनी बेटियों और कर्मचारियों को समझाने में लगी हैं. नूई ने कहा था, ''ट्रंप के आने से सभी उदास हैं. मेरे कर्मचारी रो रहे हैं. ख़ासकर जो गोरे नहीं हैं वे सवाल पूछ रहे हैं कि क्या वे अमरीका में सुरक्षित हैं? महिलाएं पूछ रही हैं कि क्या वे सुरक्षित हैं? समलैंगिक पूछ रहे हैं कि क्या वे सुरक्षित हैं? मुझे नहीं लगता कि इन सवालों का जवाब भी है.''

इंदिरा नूई ट्रंप के 19 सदस्यों वाले बिज़नस फोरम में तीसरी महिला हैं. अमरीका की आर्थिक नीतियों में इस फोरम की अहम भूमिका होगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption निकी हेली

जब ट्रंप ने इंदिरा नूई को इस फोरम में शामिल किया तो उनके पुराने बयानों की चर्चा गर्म हो गई. पेप्सीको ने इस मामले में एक बयान जारी किया है. इस बयान में बताया गया है कि नूई के बयान को ग़लत तरीके से पेश किया गया है.

पेप्सिको ने कहा कि नूई ने केवल अपने कर्मचारियों के एक ग्रुप की भावना रखी थी. उन्होंने ऐसा कभी नहीं कहा था कि पेप्सिको के सारे कर्मचारी ऐसा ही सोचते हैं. पेप्सिको ने कहा कि हम सभी अलग-अलग विचारों के साथ जीते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे