ड्रोन मामले को 'तूल' दे रहा है अमरीका : चीन

इमेज कॉपीरइट US NAVY

चीन ने अमरीका पर समुद्री ड्रोन जब्त करने के मामले को 'तूल देने' का आरोप लगाया है.

चीन ने अमरीका से कहा है कि वो चीन के समुद्र में चौकसी का काम बंद कर दे. दोनों देशों के बीच एक समुद्री ड्रोन को लेकर तनाव बढ़ गया है.

चीन के रक्षा मंत्रालय ने ये मांग चीन के एक नौसैनिक जहाज़ द्वारा अमरीकी खोजी ड्रोन को पकड़ने के बाद जारी किया है.

ये घटना चीन की धरती से सैकड़ों किलोमीटर दूर फिलिपींस के पास समुद्र में हुई है. अमरीका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने चीन पर अंतरराष्ट्रीय जलक्षेत्र में ड्रोन चुराने का आरोप लगाया है.

हाल के दिनों में ये तीसरा मौका है जब ट्रंप ने चीन पर टिप्पणी की है.

अमरीका और चीन के बीच ये सैन्य टकराव का एक गंभीर मामला माना जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका का कहना है कि इस ड्रोन का इस्तेमाल वैज्ञानिक शोध के लिए किया जा रहा था. अमरीका ने उसे लौटाने की मांग करते हुए चीन को चेतावनी दी है कि ऐसा दोबारा नहीं होना चाहिए.

चीन ने जब्त किया अमरीकी समुद्री ड्रोन

चीन की कमज़ोर नस- 'वन चाइना पॉलिसी' क्या है?

चीन ने शनिवार को कहा कि ड्रोन को वापस करने के लिए बातचीत तय की जा रही है. इसके बाद एक अन्य बयान में चीन के रक्षा मंत्रालय ने अमरीका की आलोचना करते हुए कहा कि वो इस मामले पर जरूरत से ज्यादा प्रतिक्रिया दे रहा है.

चीन की ओर ये बयान अमरीका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की ओर से ट्विटर पर दी गई प्रतिक्रिया के बाद आया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्रंप ने चीन पर 'चोरी' का आरोप लगाया है.

ट्रंप के 'उस फ़ोन कॉल' पर चीन अमरीका से नाराज़

नज़रिया: 'ट्रंप को अभी अपनी विदेश नीति भी पता नहीं है'

ट्रंप ने ट्वीट किया, "अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में चीन ने अमरीका के नेवी रिसर्च ड्रोन को चुराया है. उन्होंने इसे पानी से निकाला और चीन ले गए. ऐसा अब से पहले कभी नहीं हुआ था."

ट्रंप ने इस महीने की शुरुआत में ताइवान की राष्ट्रपति से फ़ोन पर बात की थी. इस बातचीत के जरिए उन्होंने अमरीका की दशकों पुरानी चीन-ताइवान नीति से अलग नीति ली थी. चीन ने इस पर विरोध जाहिर किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)