चुराया हुआ ड्रोन चीन से वापस नहीं चाहिए: ट्रंप

इमेज कॉपीरइट AFP

नवनिर्वाचित अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने चीन से कहा है कि वह ज़ब्त ड्रोन को वो अपने पास रखे. इससे पहले अमरीकी रक्षा विभाग पेंटागन की तरफ से कहा गया था कि चीन अमरीका को समुद्री ड्रोन लौटाने को तैयार हो गया है.

ट्रंप ने कहा, "हमें चीन को कहना चाहिए कि हम उस ड्रोन को वापस नहीं लेना चाहते जिसे उसने चुरा लिया था. वे इसे अपने पास ही रखें."

हालांकि पेंटागन के कहा था कि गुरुवार को दक्षिण चीन सागर में ज़ब्त किए गए ड्रोन को लौटाने पर चीन के साथ 'सहमति बन गई' है.

पेंटागन के प्रवक्ता पीटर कुक ने शनिवार को जानकारी दी, " चीन प्रशासन से सीधे संपर्क के जरिए हमने ये सुनिश्चित कर लिया है कि चीन अमरीका को यूयूवी (मानवरहित समुद्री वाहन) लौटा देगा."

चीन ने जब्त किया अमरीकी समुद्री ड्रोन

ड्रोन मामले को 'तूल' दे रहा है अमरीका : चीन

इमेज कॉपीरइट US NAVY

इसके पहले चीन के रक्षा मंत्रालय ने अमरीका की प्रतिक्रिया की आलोचना की थी.

चीन ने अमरीका पर इस मामले को 'तूल' देने का आरोप लगाया था.

चीन ने अमरीका से ये भी कहा कि वो चीन के समुद्र में चौकसी का काम बंद कर दे.

इमेज कॉपीरइट AFP

चीन की ओर ये बयान अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की ओर से ट्विटर पर दी गई प्रतिक्रिया के बाद आया था.

चीन की कमज़ोर नस- 'वन चाइना पॉलिसी' क्या है?

'वन-चाइना पॉलिसी' के बारे में ट्रंप का बड़ा बयान

ट्रंप ने ट्विटर पर ये मुद्दा उठाते हुए चीन पर 'चोरी' का आरोप लगाया था.

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्रंप ने ट्वीट किया, "अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में चीन ने अमरीका के नेवी रिसर्च ड्रोन को चुराया है. उन्होंने इसे पानी से निकाला और चीन ले गए. ऐसा अब से पहले कभी नहीं हुआ था."

ट्रंप ने इस महीने की शुरुआत में ताइवान की राष्ट्रपति से फ़ोन पर बात की थी. इस बातचीत के जरिए उन्होंने अमरीका की दशकों पुरानी चीन-ताइवान नीति से अलग रुख़ अपनाया था जिसका चीन ने विरोध किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे