इस बार पुतिन को गुस्सा क्यों नहीं आया?

पुतिन इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption तुर्की के राष्ट्रपति के साथ पुतिन

तुर्की में रूसी राजदूत आंद्रे कार्लोफ़ की हत्या के बाद राष्ट्रपति पुतिन को गुस्सा क्यों नहीं आया? आख़िर इस हाई-प्रोफाइल हत्या के बाद भी दोनों देशों के संबंधों में कोई कड़वाहट क्यों नहीं आई?

इमेज कॉपीरइट Reuters

अंकारा में हत्या के बाद चार रूसी महिलाएं तुर्की में दूतावास के बाहर कार्लोफ़ को श्रद्धांजलि देने पहुंची थीं. ये महिलाएं कार्लोफ को जानती थीं. ये किसी तरह खुद को भावुक होने से रोकने की कोशिश करती दिखीं.

रूसी कल्चरल असोसिएशन में काम करने वाली लैरिसा लुत्कोव तुर्कन ने कहा, ''यह हम सभी रूसियों के लिए बड़ी त्रासदी है. वह बहुत अच्छे इंसान के साथ तेज-तर्रार डिप्लोमेट थे.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption आंद्रे कार्लोफ़ की पत्नी मारिया

मैंने उनसे पूछा कि क्या उन्हें इस मामले में रूसी सरकार के गुस्से का अंदाजा है. लेकिन वह इस सवाल पर रुक गईं. उन्होंने कहा, ''मेरा मानना है कि मैं इसे समझती हूं लेकिन अभी इस पर बात करना कठिन है.''

इस हत्या से रूस और तुर्की दोनों विचलित हैं. कार्लोफ़ को उनके सहकर्मी पेशेवर और कम बोलने वाले डिप्लोमेट के रूप में जानते थे.

इन्हें भी पढ़ें

तुर्की में रूसी राजदूत के हत्यारे के बारे में ख़ास बातें

तुर्की में रूसी राजदूत की हत्या क्यों हुई?

इस हत्या के बाद अभी तक दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में कोई तनातनी नहीं आई है.

यहां तक कि तुर्की के राष्ट्रपति एर्दवान और रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन एक ही भाषा में बोल रहे हैं. दोनों नेताओं ने कहा कि यह दोनों देशों के बीच संबंधों को तबाह करने की कोशिश है लेकिन लोग इसमें कामयाब नहीं होंगे. कहा जा रहा है कि इस हत्या के बाद दोनों देश आतंक के ख़िलाफ़ और करीब आ सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption तुर्की ने मार गिराया था रूसी एयरक्राफ्ट

नाकाम पड़ोसी

रूस और तुर्की के बीच युद्ध का इतिहास चार शताब्दी पुराना है. इनके बीच आख़िरी सैन्य संघर्ष से लेकर 100 सालों तक कलह की स्थिति बनी रही. सीरिया के मुद्दों पर दोनों देशों के बीच पर्याप्त मतभेद हैं.

तुर्की, सीरिया में राष्ट्रपति बशर अल-असद के ख़िलाफ़ विद्रोहियों का समर्थन कर रहा है जबकि रूस असद का साथ दे रहा है.

रूस असद के समर्थन में सीरिया में सैन्य मदद कर रहा है. एक साल पहले जब तुर्की ने सीरिया की सीमा पर रूसी एयरक्राफ्ट को मार गिराया था तब दोनों देशों के बीच तनाव चरम सीमा पर पहुंच गया था.

पुतिन ने कहा था कि आतंक के एक साथी ने पीठ में छुरा भोंका है. मॉस्को ने कहा था कि एर्दवान के परिवार को इस्लामिक स्टेट के कथित तेल तस्करी से लाभ पहुंचता है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption आंद्रे कार्लोफ

रूसी एयरक्राफ्ट गिराने के बाद दोनों देशों के बीच सैन्य संघर्ष की एक प्रबल आशंका बनी थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ. दोनों देशों के बीच महीनों तनाव रहने के बाद तुर्की के राष्ट्रपति ने पुतिन से माफी मांगते हुए एक पत्र लिखा था. अब दोनों देशों के बीच गर्मजोशी की वजह सीरिया ही है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रूसी राजदूत की हत्या

सीरिया में जारी संघर्ष में पश्चिम के देशों का प्रभाव लगातार कम हो रहा है. पश्चिम के देश सीरिया से निकल रहे हैं और रूस, तुर्की की यहां मौजूदगी बढ़ रही है. सीरिया से दोनों देशों के हित जुड़े हैं.

तुर्की उत्तरी सीरिया में अपना प्रभाव बढ़ाना चाहता है. दूसरी तरफ रूस एलेप्पो को असद के नियंत्रण में लाकर असद को मजबूत करना चाहता है. असद की मजबूती से ही रूस की सीरिया में मौजूदगी सुनिश्चित होगी.

हालांकि तुर्की के अधिकारी इस बात को स्वीकार नहीं कर रहे हैं कि सीरिया को लेकर दोनों देशों के बीच कोई समझौता है. दूसरी तरफ दुनिया भर में इसे संदिग्ध माना जा रहा है क्योंकि एलेप्पो में रूसी बमबारी पर तुर्की पूरी तरह से चुप है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे