जब 'मामू' बन गए पाकिस्तानी रक्षा मंत्री

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख़्वाज़ा आसिफ़

दुनिया में पहले ही मुसीबतें क्या कम थीं कि अब फर्जी ख़बर की बीमारी भी सोशल मीडिया के ज़रिए हर तरफ़ फैल रही है.

नवंबर के अमरीकी चुनावों में फर्ज़ी समाचारों ने क्या क्या गुल खिलाए, इस पर अब तक बहस हो रही है.

सबसे ख़तरनाक बात ये है कि आज की दुनिया में कोई भी व्यक्ति जिसके पास एक लैपटॉप और इंटरनेट कनेक्शन हो, दुनिया के किसी कोने में बैठकर, अपनी तफ़री के लिए या अपनी तबीयत से मज़बूर हो कर या फिर ज़्यादा से ज़्यादा हिट्स की लालच में कोई भी ऐसा झूठ गढ़ ले, जिससे हज़ारों लाखों लोग ख़तरे में पड़ जाए.

'भैया लड़ना है तो लड़ लो, तमाशा क्यों बने हुए हो'

भारत और पाकिस्तान में आप बोर नहीं होंगे

'इंसाफ अंधा ही नहीं, बहरा और गूंगा भी चलेगा'

ऐसी वेबसाइट्स पर जितनी हिट्स मिलती हैं, उतने ही इश्तेहार भी मिलते हैं और कोई भी घर बैठे केवल झूठ और सनसनी गढ़ कर हज़ारों डॉलर कमा सकता है.

अगर आप ऐसी वेबसाइट्स से चौंकन्ना नहीं रहेंगे तो आप जितने बड़े धुरंधर हों, उतने ही ज़्यादा शर्मिंदगी में डूबते चले जाएंगे.

इसका ताज़ा उदाहरण पाकिस्तानी रक्षा मंत्री ख़्वाज़ा मोहम्मद आसिफ़ का है. आपको वैसे भी हर विषय पर बोलने और फिर प्रतिक्रिया के मजे लूटने का शौक है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इस शौक के चलते ही वे पांच दिन पहले जाली ख़बरों के लिए मशहूर एक वेबसाइट एडब्ल्यूडी के हाथों 'मामू' बन गए.

इस वेबसाइट पर ख़बर छपी कि इसराइली रक्षा मंत्री मोसे यालून ने धमकी दी है कि अगर पाकिस्तान ने इस्लामिक स्टेट से लड़ने के लिए शाम में अपने फौजी भेजे तो इसराइल पाकिस्तान को परमाणु हथियारों से नष्ट कर देगा.

ख़्वाज़ा आसिफ़ जिस संवदेनशील पद पर विराजमान हैं, उसका तकाजा है कि देश की रक्षा से पहले अपने कानों और ज़ुबान की रक्षा करें.

मगर यहां पर ऐसी नसीहत देना, सूरज को चिराग दिखाने जैसा है.

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption पाकिस्तानी रक्षा मंत्री का आधिकारिक ट्वीट

ख़्वाज़ा आसिफ़ ने बिना किसी से पूछे, ना आव देखा ना ताव, तुरंत अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिख डाला- इसराइली रक्षा मंत्री ने जो पाकिस्तान को धमकी दी, तो शायद उन्हें याद नहीं रहा कि पाकिस्तान के पास भी परमाणु हथियार है.

क़ाश ख़्वाज़ा आसिफ़ किसी से पूछ लेते कि क्या वाकई पाकिस्तान ने सीरिया में फौज भेजने का फ़ैसला लिया है. अगर किया है तो मुझे किसी ने क्यों नहीं बताया?

'पास वालों को घास नहीं डालते, दूर वालों को...'

क़ाश वे सोच लेते कि अगर वाकई इसराइली रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान को नष्ट करने की धमकी दी है, तो इतनी बड़ी ख़बर विश्व के किसी बड़े अख़बार और चैनल ने क्यों नहीं उठाई है.

और तो और भारतीय मीडिया भी इस पर चुप क्यों है?

इमेज कॉपीरइट Khawaja Asif Facebook
Image caption पाकिस्तानी रक्षा मंत्री ख़्वाज़ा आसिफ़ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के साथ

और नहीं तो ख़्वाज़ा साब कम से कम विकीपीडिया खोलकर देख लेते कि इसराइल के रक्षामंत्री का नाम मोसे यालून नहीं, एबीगिड्रोल लिबरमैन है. मोसू यालून तो अपने पद से सात महीने पहले ही फ़ारिग हो गए थे.

चलिए ग़लती किसी से भी हो सकती है, भले वो ख़्वाज़ा आसिफ़ ही क्यों ना हों?

मगर अब जब ये मालूम हो चुका है कि ये ख़बर ही ग़लत है और इसराइल के रक्षा मंत्री के आधिकारिक ट्विटर ने उसे झुठला भी दिया है तो ये ट्वीट करने में क्या रूकावट है कि साब माफ़ी चाहता हूं, मुझसे ग़लती हो गई.

'लो अब कटोरा भी नज़र नहीं आ रहा'

पर वो जो कहते हैं मर्दों की एक ज़ुबान होती है, जो कह दिया सो कह दिया, बस.

वैसे जिस मंत्री की इस वक्त देश को सबसे ज़्यादा ज़रूरत है, वो है ही नहीं. यानी एक फ़ुलटाइम विदेश मंत्री. इसलिए ख़्वाज़ा आसिफ़ समेत हर कोई विदेश मंत्री बना हुआ है, इस तरह तो होता है, इस तरह के कामों में.

वैसे आज से तो मैं ये कहने लायक भी नहीं रहा, ख़्वाज़ा मेरे ख़्वाज़ा दिल में समा जा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे