एक क्रिसमस सेल्फी वाली भी

इमेज कॉपीरइट EPA

25 दिसंबर को दुनिया भर में क्रिसमस का त्योहार पूरे जश्न के साथ मनाया गया. ये तस्वीरें वेस्ट बैंक में बेथलेहम के 'चर्च ऑफ नैटिविटी' की है.

आधी रात के वक्त चर्च के पादरियों ने इकट्ठा होकर प्रार्थना समारोह में हिस्सा लिया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्रिसमस की अहमियत का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि दुनिया भर में ईसाई धर्म को मानने वाले लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है.

ये तस्वीर आयरिश सैलानी गेम्मा वुड्स की है जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में उत्तरी गोलार्ध का माहौल बनाने की कोशिश की.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सिडनी में मौसम गर्म था. शहर के बॉन्डी बीच पर क्रिसमस के दिन अच्छी खासी भीड़ देखी गई.

सेल्फी लेने के लिहाज से इस मौसम को बेहतरीन कहा जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट EPA

तस्वीर ताइवान की है पर ये असली पोप नहीं हैं.

कागज से बने पोप फ्रांसिस के इस कट आउट के साथ लोग तस्वीर खिंचाते देखे गए.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY

हालांकि इंडोनेशिया मुस्लिम बहुल देश है लेकिन यहां हिंदू समुदाय भी हैं और ईसाई भी.

तस्वीर इंडोनेशिया के सुराबया की है जहां के स्थानीय ईसाई समुदाय ने इकट्ठा होकर प्रार्थना समारोह में हिस्सा लिया.

इमेज कॉपीरइट EPA

ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में सेंट कैथेड्रल गिरिजाघर. तस्वीर में प्रार्थना करते लोगों को देखा जा सकता है. मेलबर्न नाकाम चरमपंथी हमलों के निशाने पर रह चुका है.

क्रिसमस के साथ एक और अच्छी बात ये भी है कि दुनिया के उन हिस्सों में भी इसका जश्न मनाया जाता है, जहां ईसाइयों की आबादी का अनुपात कम है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वैटिकन जो एक तरह से ईसाई धर्म का मुख्यालय है. ईसाई धर्म गुरु पोप फ्रांसिस की सत्ता यहीं है.

आधी रात को बेबी जीसस की मूर्ति को चूमते हुए पोप फ्रांसिस.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY

भारत के पड़ोसी देश श्रीलंका में भी ईसाई समुदाय बड़ी संख्या में है. तस्वीर कोलंबो की है जहां एक महिला एक धार्मिक गतिविधि में हिस्सा लेते हुए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)