'चाय ना पिलाऊंगा' कहने पर मिली जेल

इमेज कॉपीरइट Reuters

तुर्की में सरकार की आलोचना करने वाले एक अख़बार के कैफेटेरिया के मालिक को इसलिए हिरासत में ले लिया गया क्योंकि उन्होंने कहा था कि वह देश के राष्ट्रपति रेचप तैयब अर्दोआन को चाय नहीं पेश करेंगे.

जम्हूरियत नामक अख़बार के कैफेटेरिया के प्रमुख सेनोल बुरान पर राष्ट्रपति का अपमान करने के आरोप है. लेकिन सेनोल बुरान के वकील के मुताबिक उन्होंने राष्ट्रपति के अपमान संबंधी इन आरोपों से इनकार किया है.

महत्वपूर्ण है कि तुर्की में असफल तख्तापलट की कोशिश के बाद से असंतोष जारी है.

जम्हूरियत देश के उन कुछ समाचार पत्रों में शामिल है जिन्होंने राष्ट्रपति विरोधी नीति अपना रखी है.

इस अख़बार के कर्मचारी उन हज़ारों लोगों में शामिल है जिन्हें तख्तापलट की कोशिश के बाद गिरफ्तार, निलंबित किया गया है, या अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

खबरों के मुताबिक 24 दिसंबर को जब बुरान जब अपने काम पर जा रहे थे तो उस दौरान राष्ट्रपति के भाषण को देखते हुए सुरक्षा के तहत सड़कों को बंद कर दिया गया था.

ऐसे में बुरान ने एक पुलिस अधिकारी से कहा कि वो इस व्यक्ति को एक कप चाय भी नहीं पिलाएंगे.

इस्तांबुल की आपराधिक अदालत के न्यायाधीश ने बुरान को हिरासत रखने का आदेश दिया है.

तुर्की में राष्ट्रपति का अपमान करने के आरोप में चार साल की कैद हो सकती है.

पिछले महीने इसी अखबार के 10 कर्मचारियों को कुर्द चरमपंथियों का कथित समर्थन करने के आपोप में जेल भेज दिया गया था. उन पर आरोप था कि वह कुर्द विद्रोहियों के अमेरिका में मौजूद धार्मिक नेता गोलन के समर्थक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)