दक्षिण अफ्रीका में आज़ादी का उत्सव

इमेज कॉपीरइट European Photopress Agency

दक्षिण अफ्रीका में दो जनवरी को नए साल का जश्न मनाया गया.

राजधानी केपटाउन की सड़कों पर लोगों ने परेड निकाली और नाच-गाकर खुशी का इजहार किया.

इमेज कॉपीरइट EPA

जगह-जगह भव्य झांकियां भी निकाली गईं.

19वीं सदी में दक्षिण अफ्रीका के गुलामों को अपने मालिकों से साल में एक दिन का अवकाश मिला था. तभी से दो जनवरी को परेड और जश्न की परंपरा शुरू की गई.

इमेज कॉपीरइट EPA

ये केप मिनिस्ट्रल बैंड के दक्षिण अफ्रीकी सदस्य हैं. उन्होंने हर साल की तरह इस साल भी ट्वीडी न्यू ईय़र (यानी सेकेंड न्यू ईयर) मनाया.

इमेज कॉपीरइट European Photopress Agency

सार्वजनिक जगहों पर सतरंगी पोशाक पहने बच्चे और खुशरंग चेहरे छाए रहे.

इमेज कॉपीरइट EPA

हर साल इसी दिन लोग न्यू ईयर मनाने जुटते हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

वहीं केपटाउन में भव्य झांकियां भी निकाली जाती है.

खुशियां मनाने के लिए समूह में लोग गीत गाते हैं, छतरियां लेकर घूमते हैं, बैंजो बजाते हैं, संगीत का आनंद उठाते, नाचते हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

डिस्ट्रिक्ट सिक्स इलाके से इनका जत्था चलता है और शहर के मध्य हिस्से तक नाचते-झूमते हुए पहुंचता है.

ये वो गाने होते हैं जिन्हें 18वीं सदी से गाया जा रहा है. वे अभी भी लोगों की जुबां पर चढ़े हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)