आप भी दफ्तर में केक खाते हैं तो सावधान!

इमेज कॉपीरइट COLORBLIND IMAGES

ब्रिटेन में चिकित्सकों ने दफ़्तरों में केक खिलाने के चलन की ये कहते हुए आलोचना की है कि इसका असर लोगों की सेहत पर पड़ता है.

रॉयल कॉलेज ऑफ़ सर्जन्स की फ़ैकल्टी ऑफ़ डेंटल सर्जरी के चिकित्सकों ने कहा कि लोगों को काम करते समय केक और बिस्किट खाने पर नियंत्रण करना चाहिए.

संस्था के अनुसार इससे मोटापा बढ़ता है और मुँह की बीमारियाँ हो सकती हैं.

शक्कर कितना मीठा है?

मोटे हैं तो नौकरी में भेदभाव झेलने को तैयार रहें

क्या खाएं, क्या ना खाएं, कुछ समझ ना आए...

इमेज कॉपीरइट PA

फ़ैकल्टी के डीन प्रोफ़ेसर नाइजेल हंट ने कहा कि हो सकता है कि दफ़्तरों में मैनेजर सहकर्मियों को ये सोचकर केक-बिस्किट जैसी चीज़ें लाने से नहीं रोकते कि वो शायद ऐसा कर जश्न मनाना चाहते हैं या फिर वो छुट्टी से अपने साथियों के लिए कुछ लेकर लौटना चाहते हैं.

मगर उनका कहना है कि ये कर्मचारियों की सेहत के लिए अच्छा नहीं और इसलिए लोगों को नए साल पर संकल्प लेना चाहिए कि वो इस साल केक कल्चर को क़ाबू में करें.

फ़ैकल्टी ने दफ़्तरों में मीठी चीज़ों की खपत घटाने के लिए कुछ सुझाव भी जारी किए हैं:

  • कम चीनी वाली दूसरी चीज़ों पर विचार करें
  • खाने की मात्रा कम करें
  • हल्के-फ़ुल्के नाश्ते से बचें
  • मीठी चीज़ें केवल लंच के समय खाएँ
  • मीठी चीज़ें सोच-समझकर रखें, अगर वो सबके सामने रखी हों, तो लोग ज़्यादा खाएँगे.
  • (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)