जब बीबीसी ने कराया मेहमान का ग़लत परिचय

शनिवार को बीबीसी के ब्रेकफ़ास्ट शो पर उस वक़्त गफ़लत पैदा हो गई जब एक राजनीतिक विशेषज्ञ का परिचय साहसिक पर्वतारोही के रूप में करा दिया गया.

जोन के और रचेल बर्डन को उम्मीद थी कि उनके साथ लाल सोफ़े पर महेमान के तौर पर पर्वतारोही लेस्ली बिंस हैं.

उन्होंने एवरेस्ट फ़तह करने की कोशिश कर रही एक महिला की जान बचाई थी.

यहां देखें बीबीसी पर हुई ग़लतफ़हमी का वीडियो

लेकिन जब वो मेहमान की ओर आए तो सोफ़े पर कोई और बैठा था.

डॉक्टर टॉड लैंडमैन अमरीकी राजनीति पर चर्चा के लिए शो में शामिल थे.

जब शो ने मेहमान का परिचय कराया तो उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि आपने ग़लत व्यक्ति को बुला लिया है."

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption बाद में पर्वतारोही लेस्ली बिंस शो पर शामिल हुए.

बात को संभालते हुए रचेल बर्डन ने कहा, "मैंने इस व्यक्ति की ओर देखा और सोचा कि ज़रूरी नहीं कि वो पर्वतारोही जैसे ही दिखें."

डॉक्टर लैंडमैन ने कहा, "मेरे पास सुनाने के लिए कई साहसिक कहानियां हैं, लेकिन उनमें एवरेस्ट पर्वत शामिल नहीं है."

बाद में शो में लेस्ली बिंस शामिल हुए और महिला को बचाने की कहानी दर्शकों को बताई.

एक बयान जारी कर बीबीसी ने कहा, "ये एक ग़लती थी जिसे तुरंत सुधार लिया गया. शुक्र है कि हमारे दोनों मेहमानों ने इसके मज़ाकिया पक्ष को देखा."

Image caption गाय गोमा दस साल पहले बीबीसी में नौकरी के लिए इंटरव्यू देने आए थे और ग़लतफ़हमी से लाइव टीवी पर पहुँच गए थे.

इस मामले ने दस साल पहले बीबीसी पर हुई ऐसी ही एक चर्चित घटना की याद दिला दी जब बीबीसी न्यूज़ पर एक इंटरनेट संगीत विशेषज्ञ की जगह एक नौकरी के लिए इंटरव्यू देने आए एक व्यक्ति को लाइव बिठा दिया गया था.

8 मई 2006 को गाय गोमा नौकरी पाने के लिए बीबीसी दफ़्तर आए थे, लेकिन स्वागत कक्ष में हुई ग़लतफ़हमी की वजह से उन्हें लाइव स्टूडियो में तकनीकी पत्रकार गाय कॉवनी की जगह बिठा दिया गया था.

ग़लत मेहमान के साथ हुआ ये साक्षात्कार उस समय चर्चा में रहा था. गाय गोमा को बीबीसी में नौकरी तो नहीं मिली थी, लेकिन वो इंटरनेट सेलिब्रिटी ज़रूर बन गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)